जयपुर। जयपुर जिले में ई-सखी परियोजना के तहत मास्टर ट्रेनर्स का दो दिवसीय जिला स्तरीय प्रशिक्षण कार्यशाला मंगलवार को इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में सम्पन्न हुई। भामाशाह योजना के तहत जिले के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में महिलाओं को ई-सखी के रूप में प्रशिक्षित करने के लिए ये मास्टर ट्रेनर्स कार्य करेंगे। कार्यशाला के समापन सत्र में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आलोक रंजन, सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के संयुक्त निदेशक आर.के.शर्मा, उप निदेशक महेश गुप्ता व अनुज सक्सेना ने प्रशिक्षण में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले मास्टर ट्रेनर्स को पुरस्कृत किया।
यह प्रशिक्षण कार्यशाला जिला कलक्ट्रेट स्थित उप निदेशक (एसीपी), सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग जयपुर द्वारा आयोजित की गई। जिसमें 200 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। बुधवार से अगले बैच के लिए 2 दिवसीय कार्यशाला प्रारम्भ होगी। एसीपी महेश गुप्ता ने बताया कि जयपुर जिले में 800 मास्टर ट्रेनर्स आईटी ज्ञान केन्द्रों पर फैकल्टी के रूप में कार्य कर रहे है। इस प्रशिक्षण कार्यशाला के बाद ये मास्टर ट्रेनर प्रत्येक ग्राम पंचायत पर 5 ई-सखी तथा शहरी क्षेत्र में प्रत्येक वार्ड में 10 ई-सखी को प्रशिक्षित करेंगे। इन ई-सखियों द्वारा कम से कम 100 नागरिकों को डिजीटल साक्षर बनाया जायेगा ताकि आमजन राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का सुगमता से लाभ ले सके। 

ये मास्टर ट्रेनर्स ई-पीडीएस, राजधरा, राजसम्पर्क, महिला सुरक्षा एप, भामाशाह योजना, एसएसओ आईडी, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना तथा ई-मित्र योजना जैसे डिजीटल प्लेटफार्मस के बारे में ई-सखियों को प्रशिक्षण देंगे। कार्यशाला में उप निदेशक सांख्यिकी जगदीश मीणा, प्रोग्रामर ऋतेश शर्मा व महिपाल सहित जिले के आईटी ज्ञान केन्द्रों से आये मास्टर ट्रेनर एवं सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के कार्मिकों ने भाग लिया।