देश में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत के साथ ही इस पर सियासत भी शुरू हो गई है। कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि फेज-3 के ट्रायल के बिना ही वैक्सीन को इमरजेंसी अप्रूवल दिया गया। अगर वैक्सीन इतनी ही भरोसेमंद है, तो सरकार से जुड़े लोग इसका डोज क्यों नहीं लगवा रहे?

वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत होने के बाद कहा कि यह कोरोना के खिलाफ संजीवनी का काम करेगा। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें और वैज्ञानिकों-एक्सपर्ट्स पर भरोसा रखें।

जो बाइडेन और कमला हैरिस ने भी वैक्सीन लगवाई : तिवारी
आनंदपुर साहिब (पंजाब) से कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा कि दुनिया के हर देश, जहां वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है, वहां लीडर्स ने टीका लगवाया। प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन और वाइस प्रेसिडेंट इलेक्ट कमला हैरिस ने भी वैक्सीन लगवाई। ब्रिटेन में क्वीन एलिजाबेथ और प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भी वैक्सीन लगवाई। ऐसा इसलिए ताकि वे अपने लोगों में वैक्सीन के प्रति भरोसा जगा सकें। फिर हमारे यहां क्यों सरकार ऐसा नहीं कर रही?

आज का दिन ऐतिहासिक : हर्षवर्धन
हर्षवर्धन ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है। भारत ने पहले पोलियो और चेचक के खिलाफ जंग जीती है और अब भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोविड-19 के खिलाफ जंग जीतने के निर्णायक दौर में पहुंच चुका है। उन्होंने कहा कि हम पिछले एक साल कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। हमने समय से पहले अलर्ट होकर और सक्रिय रणनीति के साथ कोरोना पर काबू पाने की कोशिश की है। दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर हमारे देश में ही है।

अफवाहों के खिलाफ जागरूकता फैलाए मीडिया : स्वास्थ्य मंत्री
उन्होंने कहा कि मैं सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स को बधाई देना चाहूंगा। ऐसे समय जब अफवाहें फैलाई जा रही हैं, मुझे उम्मीद है कि मीडिया इस बारे में सच्चाई लोगों के सामने लाए। जिससे कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीतने में हम जल्द से जल्द कामयाब हो सकें।

PM ने की वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत
इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार सुबह 11.05 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। दुनिया के 100 देशों की तो इतनी आबादी भी नहीं है। संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री भावुक भी हो गए।