जयपुर, शहर आज मकर संक्रांति के उल्लास में मशगूल है। ऐसे में सड़क से छतों तक फुल मस्ती छाई हुई है। कोई पतंग लूटने में सब कुछ भूले हुए है तो कोई पेंच काटने में व्यस्त है। पतंग की चाहत में उसे कुछ भी नजर नहीं आता। न सड़क पर कोई वाहन और न ही छतों की छोटी-छोटी दीवारें। पतंगों की ऐसी दीवानगी के मद्देनजर प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल शहर के एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में डॉक्टरों की अतिरिक्त व्यवस्था की गई है।

एसएमएस अस्पताल अधीक्षक डॉ. डीएस मीना ने बताया कि अस्पताल प्रशासन ने ट्रोमा सेंटर में आमदिनों की अपेक्षा सहायक आचार्य और सीनियर रेजीडेंट डॉक्टर की ड्यूटी लगाई है। वहीं न्यूरोसर्जरी, ऑर्थोपेडिक, जनरल सर्जरी के डाक्टर्स की संख्या बढ़ाई है। पैरामेडिकल स्टाफ की राउंड द क्लाक व्यवस्था की है।