लखनऊ:उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) में राम जन्मभूमि (Ram Janambhoomi) के भूमि पूजन को लेकर बड़ी खबर आ रही है. सूत्रों के अनुसार राम मंदिर (Ram Mandir) के लिए भूमि पूजन 30 अप्रैल को किया जाएगा. इसकी औपचारिक घोषणा अगले महीने 4 अप्रैल को ट्रस्ट की बैठक में की जाएगी.

जानकारी के अनुसार ट्रस्ट इस आयोजन में शामिल होने के लिए आरएसएस के सर संघचालक मोहन भागवत और पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को भी निमंत्रण देगा. इस भूमि पूजन के लिए देश की हर पवित्र नदी का जल लाया जाएगा. यही नहीं, सभी तीर्थों की मिट्टी भी लाई जाएगी. इससे पहले 25 मार्च को अस्थायी मंदिर में रामलला की मूर्ति स्थापित की जाएगी.

प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की है विशेष तैयारी
वैसे 25 मार्च को रामलला के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर योगी सरकार ने विशेष तैयारी कर रखी है. इस कार्यक्रम में ट्रस्ट के सदस्यों के साथ खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इस दौरान मौजूद रहेंगे. नवरात्र का प्रथम दिन होने के चलते इस दिन के लिए विशेष तौर पर फलाहारी प्रसाद की व्यवस्था की जा रही है. रामलला फलाहार का ही सेवन करेंगे. वैसे इसके बाद रामनवमी पर रामलला के जन्म को भी पहली बार लाइव टेलीकास्ट करने की योजना है. ट्रस्ट इस पर मंथन कर रहा है.

मेले को लेकर दिशा-निर्देश नहीं
एक तरफ जहां भव्य राम मंदिर के भूमि पूजन की तैयारियां शुरू की जा रही हैं, वहीं दूसरी ओर यूपी समेत देशभर में पैर पसार रहे कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर भी चिंता जताई जा रही है. यूपी सरकार ने भी इसको लेकर अलर्ट जारी किया है, लेकिन अयोध्या में 25 मार्च से शुरू होने वाले रामनवमी मेले पर अभी तक कोई दिशा-निर्देश नहीं दिया गया है. इस मेले में हर साल लाखों की संख्या में लोग पहुंचते हैं. सरकार ये जरूर कह रही है कि लोग भीड़भाड़ के इलाके में न जाएं. शादी विवाह जैसे सामूहिक कार्यक्रमों से परहेज करें. घरों में रहें और साफ-सफाई का ध्यान रखें. लेकिन अयोध्या को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है.