मुंबई, गैर वित्तीय कारोबार करने वाली सूचीबद्ध निजी कंपनियों का शुद्ध मुनाफा चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 21.2 प्रतिशत कम हो गया है। रिजर्व बैंक के जारी आंकड़ों के अनुसार कच्चे पदार्थों, बिजली और ईंधन का खर्च बढ़ना इसका कारण है। आंकड़ों के अनुसार, इन कंपनियों का चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में शुद्ध मुनाफा 44,700 करोड़ रुपए रहा है। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में उनका शुद्ध मुनाफा 11.2 प्रतिशत बढ़ा था।

रिपोर्ट के अनुसार, पहली तिमाही में विनिर्माण कंपनियों की बिक्री में शानदार वृद्धि हुई है। सीमेंट एवं सीमेंट उत्पाद, लोहा एवं इस्पात, इलेक्ट्रिकल मशीनरी और खाद्य उत्पाद एवं पेय पदार्थ जैसे उद्योग अग्रणी भूमिका में रहे। सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की बिक्री वृद्धि इस दौरान कम हुई है। सेवा क्षेत्र की कंपनियों में लगातार चार तिमाही के संकुचन के बाद बदलाव आया है और इसका मुख्य कारण खुदरा एवं थोक व्यापार, परिवहन और भंडारण सेवाओं की कंपनियां हैं।