धर्म डेस्क, कुछ वस्तुओं को वास्तुशास्त्र में शुभ प्रतीक माना जाता है। इनसे घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इन शुभ वस्तुओं में ओम, स्वास्तिक, मंगल कलश आते हैं, इन्हें घर में रखने से घर का वातावरण शुद्ध होता है। घर में सुख-शांति बनी रहती है। चलिए अब आपको बताते हैं कैसे प्रत्येक वास्तु चिन्ह घर में रखना लाभदायक होता है। इसके क्या लाभ हैं एवं यह कैसे काम करता है............

ओम चिन्ह:-

ओम चिन्ह को वास्तुशास्त्र में बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। ओम सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा का प्रतीक है। ओम का चिन्ह घर में रखने से एक खास प्रकार की ऊर्जा का संचार होता है जो घर में रोगों को उत्पन्न करने वाली ऊर्जा को नष्ट करती है। इसे आप अपनी मनचाही जगह पर रख सकते हैं।

स्वास्तिक चिन्ह:-

स्वास्तिक चिन्ह का प्रयोग प्राचीन काल से हो रहा है। हिन्दू धर्म के लिए स्वास्तिक चिन्ह माननीय प्रतीक चिन्ह है। वास्तुशास्त्र में भी इसका बहुत महत्व है। यदि आपको लगता है कि आप धन से संबंधित समस्या से पीड़ित हैं, धन आता है लेकिन पानी की तरह बह जाता है तो अपने घर में स्वास्तिक चिन्ह अवश्य ले आएं। इस चिन्ह को अपने घर के मुख्य द्वार के दोनों तरफ लगाएं।

मंगल कलश:-

मंगल कलश भी भारतीय परम्परा का एक अनिवार्य अंग है, जिसमें शुभ प्रतीकों के माध्यम से सौभाग्य को आमंत्रित किया जाता है। यह मिट्टी का पात्र होता है, जिसमें शुद्ध जल भरा होता है। इस पर अशोक या आम की पत्तियों का प्रयोग भी किया जाता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार मंगल कलश को घर में रखने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।