मुंबई, कंगना रनौत और विवादों का चोली-दामन का साथ है। अभी हाल ही में ‘सिमरन’ के लेखक अपूर्व असरानी ने कंगना पर आरोप लगाया था कि उन्होंने फिल्म में उनके काम का श्रेय ले लिया है। अब फिल्मकार केतन मेहता ने रानी लक्ष्मीबाई पर अपने ड्रीम प्रोजेक्ट को ‘हाइजैक’ कर लेने के लिए कंगना को कानूनी नोटिस भिजवाया है। मेहता और कंगना ने ‘रानी ऑफ झांसी द वॉरियर क्वीन’ में एकसाथ काम करना था लेकिन कंगना ने हाल ही में एक अन्य फिल्म ‘मणिकर्णिका द क्वीन ऑफ झांसी’ की घोषणा कर दी। इस फिल्म के निर्देशक क्रिश हैं।

मेहता ने बताया, ‘‘हमने इस सप्ताह की शुरूआत में कानूनी नोटिस भेजा था लेकिन उसपर कोई जवाब नहीं आया। बाद में हमें पता चला कि वे इसी विषय पर एक फिल्म बना रहे हैं। हमने कानूनी रास्ता अपनाने का फैसला किया।’’ ‘माया मेमसाब’ और ‘मिर्च मसाला’ जैसी फिल्मों के निर्देशक मेहता ने कहा, ‘‘यह विश्वासघात है। मेरा मानना है कि एक पूरी तरह से तैयार प्रोजेक्ट को हाइजैक कर लेना एक तरह का हमला है और यह स्वीकार्य नहीं है।’’

फिल्म इंडस्ट्री के कई बड़े सितारों के साथ काम कर चुके फिल्मकार ने कहा कि वह स्तब्ध हैं और उन्होंने ऐसी स्थिति का सामना पहले कभी नहीं किया। उन्होंने कहा, ‘‘यह मेरा ड्रीम प्रोजेक्ट है और मैं दस साल से इसपर काम कर रहा था। यह पूरी जिंदगी की एक महत्वाकांक्षा रही है। मैंने आमिर, शाहरूख, नसीरूद्दीन शाह जैसे सितारों के साथ काम किया है लेकिन ऐसा मेरे साथ कभी नहीं हुआ।’’ मेहता ने कहा कि उन्होंने वर्ष 2015 में कंगना से रानी लक्ष्मीबाई की भूमिका के लिए संपर्क किया था और कंगना ने फिल्म करने का वादा किया था।