जोधपुर:21 सितंबर को लोहावट थाना इलाके में रेलवे पटरी के बीच पड़े मिले नाबालिग लड़की के शव के मामले में पुलिस ने 3 युवकों को गिरफ्तार किया है. इस मामले में लड़की के पास मिले सुसाइड नोट के आधार पर तीनों युवकों को गिरफ्तार किया गया है. इनमें से दो युवक लड़की से मित्रता कर उस पर शारीरिक संबंध बनाने के लिये दबाव डाल रहे थे, लेकिन सफल नहीं हुये. तीसरा लगातार नाबालिग का पीछा कर रहा था. पुलिस तीनों आरोपियों से पूछताछ कर रही है. लड़की तीनों से परेशान थी. इसी के चलते उसने सुसाइड कर लिया था.

पुलिस अधीक्षक (जीआरपी जोधपुर) ममता राहुल ने बताया कि लोहावट से फलोदी साइड रेलवे ट्रैक  पर गत 21 सितंबर को नाबालिग लड़की का शव मिला था. लड़की का शव औंधे मुंह पटरियों के बीच पड़ा हुआ था. मृतका के दोनों पैर टूटे हुए थे. सिर पर गहरी चोट के निशान थे. लड़की की लाश की तलाशी में उसकी जेब में एक सुसाइड नोट मिला था. इसमें उसने परेशान होकर सुसाइड करना बताया था.
आत्महत्या के लिये उकसाने का मामला दर्ज किया गया था
पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसकी शिनाख्तगी करवायी गई. शिनाख्त होने के बाद शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया. घटना से आक्रोशित भारी संख्या में लोग मोर्चरी के बाहर एकत्रित होकर मामले का पर्दाफाश नहीं होने तक शव को नहीं लेने की मांग को लेकर मोर्चरी के बाहर धरने पर बैठ गये. लेकिन बाद में पुलिस ने समझा बुझाकर शव परिजनों को सौंप दिया. मृतका के पास मिले सुसाइड नोट के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 306 में मामला दर्ज किया गया था.

शारीरिक संबंध बनाने के लिये दबाव डाल रहे थे
पुलिस ने सुसाइड नोट के आधार पर महिपाल विश्नोई, प्रेम कुमार विश्नोई और बजरंग विश्नोई को गिरफ्तार किया है. गहन जांच के बाद तीनों आरोपियों की इसमें भूमिका सामने आई. पूछताछ में महिपाल ने नाबालिग लडकी से मित्रता होना एवं शारीरिक संबंध बनाने के लिये दबाव डालना स्वीकार किया है. प्रेम कुमार घटना की तारीख से ही गायब हो गया था. उसे ट्रेस कर पकड़ा गया. उसने भी नाबालिग लड़की से मित्रता और उससे शारीरिक संबंध बनाने के लिये दबाव डालना स्वीकार किया. बजरंग ने भी नाबालिग लड़की से मित्रता होना, फोन पर बातचीत करना और पीछा करना स्वीकार किया है. इस पर तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया है. अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं.