जोधपुर:सूरसागर में शनिवार रात हुए पथराव के बाद रविवार सुबह क्षेत्र में तनावपूर्ण शांति पसरी नजर आ रही है। क्षेत्र के लोगों के चेहरों पर रात के उपद्रव का खौफ साफ देखा जा रहा है। क्षेत्र के चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात है। एक ही समूह के लोगों  को गिरफ्तार करने से लोगों में आक्रोश है। कुछ संगठन आज बैठक कर पुलिस की एकतरफा गिरफ्तारी के विरोध की रणनीति बना रहे हैं। 

सूरसागर में शनिवार देर शाम रामनवमी शोभायात्रा से लौट रहे लोगों पर पथराव के बाद माहौल गरमा गया था। उत्पाती लोगों ने तीन-चार वाहनों में आग लगा दी थी। वहीं, पथराव से कई लोग घायल हो गए थे। इसके बाद देर रात क्षेत्र के फिदूसर चौपड़ पर खड़ी एक ट्रक में किसी ने आग लगा दी। देर रात पुलिस ने थाने के सामने एकत्र लोगों को हल्का बल प्रयोग कर खदेड़ दिया। 

रविवार सुबह से सहमे हुए लोग घरों में निकलने से बच रहे हैं। सड़कों पर पुलिस गश्त कर रही है। पुलिस का कहना है कि अब हालात पूरी तरह से नियंत्रण में है। वहीं, कुछ संगठनों का आरोप है कि पुलिस ने पक्षपातपूर्ण तरीके से एक ही समूह के लोगों को गिरफ्तार किया। जबकि घरों की छतों और सड़कों पर खुलेआम पथराव कर रहे लोगों में से किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई। 

कांग्रेस नेताओं का जोरदार विरोध
शनिवार देर रात पुलिस थाने के बाहर एकत्र जनसमूह को समझाने के लिए पहुंचे कांग्रेस नेता राजेन्द्र सोलंकी और विधायक मनीषा पंवार को भारी विरोध का सामना करना पड़ा। ऐसे में इन दोनों नेताओं को वापस लौटना पड़ा। वहीं, थाने के बाहर धरने पर बैठे सांसद और भाजपा प्रत्याशी गजेन्द्र सिंह शेखावत, विधायक सूर्यकांता व्यास रात साढ़े 11 बजे धरने से रवाना हो गए। इसके बाद भी लोगों का धरना जारी रहा। लोग गिरफ्तार किए गए लोगों को छोड़ने की मांग कर रहे थे। माहौल बिगड़ता देख पुलिस ने देर रात हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को खदेड़ दिया।