नई दिल्ली जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (जेएनयूएसयू) चुनाव के चार अहम पदों के लिये मतदान जारी है।अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव और संयुक्त सचिव पदों के लिये हो रहे चुनाव में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के लिये छात्र कतारों में खड़े दिखायी दिये।मतदान के पहले चरण की शुरुआत सुबह साढ़े नौ बजे हुई।यह चरण अपराह्न डेढ़ बजे खत्म होगा दूसरे चरण का मतदान अपराह्न ढाई बजे शुरू होगा और शाम साढ़े पांच बजे खत्म होगा।

मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम
चुनाव अधिकारियों ने जेएनयूएसयू चुनाव के लिये तमाम इंतजाम किये हैं।हाल में विश्वविद्यालय में हुए कई विवादों के बाद इन चुनावों पर कड़ी निगरानी बरती जा रही है।इन विवादों ने देश भर के अन्य विश्वविद्यालयों को भी प्रभावित किया।

जीत के लिए इन्होंने किया गठबंधन
वाम समर्थित ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा), स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई), डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन (डीएसएफ) और ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) इस बार ‘यूनाइटेड लेफ्ट’ गठबंधन के तहत एकसाथ चुनाव लड़ रहे हैं।जेएनयूएसयू चुनाव में नियमित चुनाव प्रचार के अलावा प्रत्याशियों ने बुधवार रात अध्यक्षीय भाषण में भी हिस्सा लिया और इसके बाद सवालों के जवाब दिए।

प्रेजिडेंशियल डिबेट में दिखा दम
चुनावों से एक दिन पहले ओतप्रोत प्रेजिडेंशियल डिबेट में उम्मीदवारों ने आरोप लगाया कि कैम्पस में राष्ट्र विरोधी  तत्व मौजूद हैं और देश लिंचिस्तान’’ में तब्दील हो रहा है। अपने भाषण में संयुक्त वाम पैनल के उम्मीदवार और इस दौड़ में सबसे आगे एन साई बालाजी ने कहा ‘भीड़ को लोगों को मारने और चले जाने की अनुमति दी गई और उनके पास आरएसएस, केंद्र सरकार तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन है. देश लिंचिस्तान में तब्दील हो रहा है।