जौनपुर:उत्तर प्रदेश में नेताओं की दबंगई की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. ताजा मामला जौनपुर का है.यहां एक महिला ने सपा नेता संजय सरोज पर उसे निर्वस्‍त्र करने और उसको बेरहमी से पीटने का आरोप लगाया है.महिला का कहना है कि उसके साथ ऐसा इसलिए किया गया क्‍योंकि उसने चुनाव में सपा प्रत्‍याशी संजय को वोट न देकर बीजेपी को वोट दिया था.महिला के अनुसार संजय सरोज इसी बात से उससे नाराज चल रहा था.शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक से मिलने पहुंचने पर वहां एएसपी ग्रामीण संजय राय ने मामले की गंभीरता देखते हुए कोतवाल को जांच के निर्देश दिए.

मामला जौनपुर के केराकत कोतवाली थाना क्षेत्र का है.पीड़ित परिवार ने आरोप लगाते हुए बताया कि केराकत से सपा के पूर्व प्रत्याशी ने भाजपा को वोट देने से नाराज होकर परिवार की एक महिला को सरेआम निर्वस्त्र कर दिया.पीड़ित परिवार केराकत कोतवाली पहुंचा तो सपा नेता वहां पहले से ही मौजूद था.परिवार को आरोप है कि कोतवाली में मौजूद सपा नेता के दबाव में कोतवाल ने उन्‍हें डांटकर भगा दिया. अब परिवार आलाधिकारियों के पास जाकर न्‍याय की मांग कर रहा है.

केराकत कोतवाली अंतर्गत मल्लूपुर गांव में एक महिला अपनी बेटी और बेटे के साथ न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है.इसकी वजह सिर्फ इतनी है कि परिवार ने 2014 लोकसभा और 2017 विधानसभा चुनाव में भाजपा को वोट दिया था. आरोप है कि इसके बाद परिवार की सपा नेता संजय सरोज से दुश्मनी हो गई.आरोप यह भी है कि 28 जून को सपा नेता ने अपने गुर्गों के साथ महिला के घर धावा बोल दिया.उसे और उसके बेटे को पीटने लगे. शोर सुनकर बेटी बाहर आई तो उसे भी नहीं बख्शा. उसकी पिटाई करते हुए गांव वालों के सामने ही उसके कपड़े फाड़ दिए गए.पूरे गांव के सामने निर्वस्त्र युवती ने किसी तरह वहां से भाग कर अपनी इज्जत बचाई. काफी देर वहां तांडव करने के बाद सपा नेता धमकी देते हुए चले गए.

दबंगों के जाने के बाद पीड़ित परिवार थाने पहुंच गया.आरोप है कि वहां कोतवाल शशिभूषण राय के पास पहले से ही आरोपी नेता बैठा था.यह देख महिला सहम गई और कोतवाल से आपबीती सुनाई, लेकिन शशिभूषण राय ने उसकी एक भी न सुनी. उसकी सुनवाई करने के बजाय कोतवाल ने उसे डांटकर कोतवाली से भगा दिया.इसके बाद पीड़ित परिवार पुलिस अधीक्षक से मिलने जिला मुख्यालय पहुंच गया. वहां वे नहीं मिले तो अपर पुलिस अधीक्षक नगर अनिल कुमार पांडेय को घटना की जानकारी दी.उन्होंने केराकत कोतवाल को मुकदमा लिखने का निर्देश दियालेकिन जब महिला कोतवाली गई तो उसका मुकदमा दर्ज करने के बजाय उसे गालियां देकर भगा दिया गया.फिर वो मुख्यालय पहुंची लेकिन वहां इस बार भी एसपी दिनेश पाल सिंह नहीं मिले.