जकार्ता:इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबैंग में 18 अगस्त से 2 सितंबर तक 18वें एशियाई खेल होने हैं। इस दौरान ट्रैफिक की समस्या से निपटने के लिए सरकार ने जकार्ता के सभी 70 स्कूलों को बंद रखने का फैसला किया है। इससे करीब 31 हजार छात्रों को घर पर ही कोर्स पूरा करना पड़ेगा। इनमें प्री से लेकर हाईस्कूल तक के स्कूल शामिल हैं। जकार्ता एजुकेशन एजेंसी (जेईए) के कार्यकारी प्रमुख बोवो रियानाटो का दावा है कि इस फैसले से छात्रों की पढ़ाई का नुकसान नहीं होगा। टीचर उन्हें सामान्य दिनों की तरह होमवर्क देते रहेंगे। 

30% से 40% तक ट्रैफिक कम होने की उम्मीद:उम्मीद है स्कूल बंद होने से एथलीट्स को खेल वाली अलग-अलग जगहों तक पहुंचने में कम समय लगेगा। जकार्ता के डिप्टी गर्वनर ने सैंडिआगा ने बताया हम उम्मीद कर रहे हैं कि इससे 30 फीसदी से 40 फीसदी तक ट्रैफिक कम हो जाएगा।

बेहद खराब ट्रैफिक है जकार्ता का:ट्रैफिक की समस्या के लिए जकार्ता बदनाम है। 2016 में सेटेलाइट नेविगेशन डाटा के आधार पर यह शहर खराब ट्रैफिक सूचकांक में टॉप पर था। इसमें पाया गया कि जकार्ता का लगभग हर ड्राइवर सालभर में औसतन 33 हजार बार गाड़ी स्टॉर्ट और बंद करता है। एक अनुमान के अनुसार शहर में 70% वायु प्रदूषण का कारण वहां के वाहन हैं। करीब 40 किलोमीटर दूर बोगोर से जकार्ता पहुंचने में आमतौर पर दो घंटे का समय लगता है। जकार्ता में काम करने वाले बहुत से लोग बोगोर में रहते हैं।