जयपुर:ग्राम पंचायतों के पीडी खाते खोलने का प्रदेशभर में विरोध शुरू हो गया है. आज से सरपंचों ने ग्राम पंचायतों पर सांकेतिक तालाबंदी करने की शुरुआत कर दी है. सरपंच संघ राजस्थान के आह्वान पर तालेबन्दी की जा रही है. सरपंचों को आरोप है कि इससे उनके वित्तीय अधिकारों में कटौती हो रही है. उनके अधिकार छीने जा रहे हैं. 

नई व्यवस्था पर सरपंचों ने उठाये सवाल
नई व्यवस्था के अनुसार अब पंचायतों का पैसों पर कोई कंट्रोल नहीं होगा. सरकार ने हर पंचायत के लिए पीडी अकाउंट खोले है. ये वित्त विभाग के कंट्रोल में होगा. सरपंचों को पंचायत के विकास कार्यों के लिए वित्त विभाग से पैसा लेना होगा. अब सरपंच खुद पैसा खर्च नहीं कर पाएंगे. सरपंचों का कहना है कि पीडी खाते खुलने से सरपंचों के अधिकार छीन लिए गए हैं. उनकी मांग है कि राजस्थान में पहले की तरह पंचायतों के खाते में ही पैसा आना चाहिए ताकि विकास कार्य की गति धीमी ना हो. पीडी खाते से पैसा लेने के लिए लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ेगा और सरपंचों के अधिकार भी खत्म हो जाएंगे.