जयपुर:पंचायती राज चुनाव से पहले राजस्थान में तल्ख सियासी बयानबाजी (Political rhetoric) का दौर तेज हो गया है. इस दौर में बीजेपी और कांग्रेस (BJP and Congress) में एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने का सिलसिला बदस्तूर जारी है. गहलोत सरकार के अगले 6 माह में गिरने का दावा करने का बयान देकर राजस्थान की राजनीति में उफान लाने नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया (Gulabchand Kataria) ने अब कहा है कि कांग्रेस के भीतर ज्वालामुखी सुलग रहा है. यह कभी भी फट सकता है.

नेता प्रतिपक्ष कटारिया ने सत्तारुढ़ पार्टी पर हमला बोलते हुये कहा कि कांग्रेस के भीतर गर्म लावा इकट्ठा होता जा रहा है. जिस दिन लावे को रास्ता मिलेगा वह उसी दिन फट जायेगा. कटारिया ने कहा कि इस सरकार की कोई जिंदगी नहीं बची है. प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली के बिलों को लेकर त्राहि-त्राहि मची हुई है. पंचायती राज चुनाव के नतीजे इस सरकार को डुबोने वाले होंगे.
कांग्रेस पार्टी में संगठन नाम की कोई चीज नहीं है

उन्होंने दावा करते हुये कहा कि जिस दिन कांग्रेस के दोनों धड़ों की बराबर की गणित बैठ जाएगी उसी दिन यह सरकार भी चली जाएगी. कटारिया ने कहा कि गोविंद सिंह डोटासरा के पीसीसी चीफ बनने के बाद किसी तरह की कोई नियुक्ति नहीं हुई है. जिन लोगों को खेमों में बंद रखा गया था उनको भी अभी तक कुछ नहीं मिला है. कांग्रेस पार्टी में संगठन नाम की कोई चीज नहीं है. पार्टी भगवान भरोसे ही चल रही है.

कांग्रेस का कटारिया पर पलटवार
उल्लेखनीय है कि हाल में कटारिया द्वारा गहलोत सरकार के अगले 6 माह में गिरने को लेकर दिये गये बयान के बाद कांग्रेस ने भी उन पर पलटवार किया है. कांग्रेस नेताओं का कहना है कि कटारिया को पार्टी में कोई पूछ नहीं रहा है. इसलिये वे अपने अस्तित्व को बचाने के लिये इस तरह के बयान दे रहे हैं. कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा ने उनके इस बयान पर कहा कि बीजेपी सरकारें गिराने का षड्यंत्र करती रहती है. कटारिया के बयान से यह साफ हो गया है कि वे अब भी सरकार गिराने का षडयंत्र कर रहे हैं.