जयपुर. महीनेभर तक चले सियासी संग्राम के बाद आज आखिरकार सचिन पायलट (Sachin Pilot) और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) की मुलाकात हुई. जयपुर में मुख्यमंत्री आवास पर हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक (Congress Legislature party Meeting) में सचिन पायलट ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में 6 साल तक मौका देने के लिए सोनिया गांधी को धन्यवाद दिया. साथ ही उप मुख्यमंत्री के रूप में मौका देने के लिए अशोक गहलोत का आभार जताया. बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि 19 विधायकों के बिना भी वह विधानसभा में बहुमत साबित कर देते, लेकिन वह खुशी नहीं मिलती. पायलट के आने पर खुशी जाहिर करते हुए सीएम ने कहा कि अपने-अपने होते हैं. बैठक में सीएम गहलोत ने कहा कि कांग्रेस विधानसभा में विश्वासमत प्रस्ताव पेश करेगी.

पायलट ने कहा कि उन्होंने 6 साल में ईमानदारी से पूरी कोशिश की कि पार्टी के लिए काम कर सकें. जिन कार्यकर्ताओं की मेहनत से सरकार बनी, उनकी अपेक्षाओं पर खरा उतरा जा सके. बतौर उप मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष उन्होंने अपनी ओर से पूरी कोशिश की. सचिन पायलट ने सहयोग के लिए सभी विधायकों का भी आभार जताया.

इससे पहले आज सुबह से ही प्रदेश में सत्ता-संघर्ष थमने के कयासों के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार सचिन पायलट और बागी विधायकों की घर-वापसी को लोकतंत्र की जीत बता रहे थे. सीएम गहलोत ने मामले को लेकर ट्वीट करते हुए कहा था कि बीती बातों को भूलकर अब आगे बढ़ने की जरूरत है. उन्होंने विधायकों से कहा कि आपसी मतभेद को भूलकर अब लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई में जुट जाना है. इस बीच कांग्रेस विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों के शामिल न होने की बातें भी सियासी गलियारों में चल रही थी. लेकिन शाम होते-होते कांग्रेस पार्टी के ऊपर छाया धुंध छंटता दिखा. जयपुर स्थित मुख्यमंत्री आवास में शाम 5 बजे से हुई विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट और उनके समर्थक सभी विधायक शामिल हुए. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच गर्मजोशी से मुलाकात हुई.