जयपुर:कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक भरत सिंह (Bharat Singh) के चिट्ठी बम से राजस्थान कांग्रेस की सियासत एक बार फिर गरमायी हुई है. भरत सिंह की चिट्ठी से पैदा हुई सियासी हलचल के बीच खान मंत्री प्रमोद जैन भाया (Pramod Jain Bhaya) ने बुधवार को पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) से मुलाकात की. भाया ने पायलट से उनके आवास पर करीब एक घंटे तक मंत्रणा की. इस मुलाकात के बाद सियासी हलकों में नई चर्चायें शुरू हो गई हैं. सचिन पायलट से मुलाकात के बाद भाया ने इसे सामान्य मुलाकात बताया. लेकिन इसके साथ ही भाया यह जोड़ना भी नहीं भूले कि दो राजनेता जब मिलेंगे तो राजनीतिक बातें तो होंगी ही.

हर व्यक्ति लिखने-कहने को स्वतंत्र है
कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक भरत सिंह की चिट्ठी पर मंत्री भाया ने पहली बार बयान दिया है. भाया ने कहा कि हर व्यक्ति लिखने और कहने को स्वतंत्र है. चिट्ठी के बारे में भाया ने कहा कि यह उनकी व्यक्तिगत सोच कुछ भी हो सकती है. वे इस पर कोई कमेंट नहीं करना चाहते. भरत सिंह खुद वरिष्ठ नेता हैं. कौनसी बात किस प्लेटफार्म पर रखनी है यह उनकी व्यक्तिगत सोच है.

भरत सिंह ने लंबे समय से मोर्चा खोल रखा है भाया के खिलाफ

मंत्री भाया के बयान से साफ हो गया कि भरत सिंह का इशारा किस मंत्री की तरफ है. भरत सिंह ने चिट्ठी में किसी मंत्री का नाम नहीं लिखा है लेकिन उसमें भरत सिंह ने जिस तरफ इशारा किया उससे सब साफ हो गया कि उनके निशाने पर मंत्री भाया ही हैं.

मुलाकात पर अटकलों का दौर शुरू
सियासी हलकों में जितनी चर्चा भरत सिंह की चिट्ठी की थी उसमें अब प्रमोद जैन भाया की सचिन पायलट से मुलाकात के बाद एक नई चर्चा जुड़ गई है. मौजूदा सियासी माहौल में प्रमोद जैन भाया की सचिन पायलट से मुलाकात के कई सियासी एंगल हैं. राजनीतिक प्रेक्षक भरत सिंह की चिट्ठी के बाद इस मुलाकात को सामान्य तो कतई नहीं मान रहे हैं.

यह है चिट्ठी बम केस
उल्लेखनीय है कि भरत सिंह ने हाल में एक चिट्ठी लिखकर सियासी हलकों में हलचल मचा दी थी. सिंह अपनी बेबाकी के लिये जाने जाते हैं. वे खुद पिछली गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं. सिंह ने अपनी चिट्ठी में एक मंत्री पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुऐ उन्हें मंत्री पद से बर्खास्त करने की मांग की है. हालांकि सिंह ने चिट्ठी में किसी का नाम नहीं लिखा है, लेकिन राजनीतिक हलकों में उनके निशाने पर खान मंत्री भाया बताये जा रहे हैं. वे लंबे समय से उनके निशाने पर हैं.