इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट ज्योर्तिमय डे (जेडे) मर्डर केस में मुंबई की स्पेशल मकोका कोर्ट का फैसला आ चुका है.  करीब सात साल पुराने इस केस में कोर्ट ने माफिया सरगना छोटा राजन को दोषी करार दिया है, जबकि दूसरे आरोपी जिगना वोरा और जोसेफ पॉल्सन को बरी कर दिया गया है.

इस मामले की शुरुआती जांच पहले मुंबई पुलिस ने की थी, फिर इसे सीबीआई को सौंप दिया गया. मामले की छानबीन के बाद सीबीआई ने मकोका कोर्ट में चार्जशीट दायर की थी. मकोका स्पेशल कोर्ट के जज समीर एस अडकर ने इस केस पर आज फैसला सुनाया.

साल 2015 में इंडोनेशिया के बाली में गिरफ्तारी के बाद जेडे मर्डर केस पहला ऐसा मामला है, जिसमें छोटा राजन के खिलाफ मुकदमा चला. मुकदमे की सुनवाई के दौरान छोटा राजन को दिल्ली की तिहाड़ जेल में रखा गया था. वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये अदालत में उसकी हाजिरी होती थी. मामले की सुनवाई के बाद सीबीआई ने मकोका कोर्ट में चार्जशीट दायर की थी.