इंदौर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को इंदौर के दाऊदी बोहरा मुस्लिम समुदाय के 53वें धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन के अशरा मबारक कार्यक्रम में पहुंचे। इस मौके पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी मौजूद थे। पीएम मोदी ने सैफी मस्जिद में नंगे पैर प्रवेश किया और मजलिस में शामिल हुए। मस्जिद में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने बोहरा समुदाय के समाजिक योगदान की तारीफ करते हुए कहा कि इस समुदाय ने  राष्ट्रभक्ति की मिसाल पेश की है।

इमाम हुसैन के जीवन उद्देश्य का किया बखान
पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि ‘अशरा मुबारक’ के इस पवित्र अवसर पर भी आपने मुझे यहां आने का मौका दिया, इसके लिए बहुत आभार। इमाम हुसैन के पवित्र संदेश को आपने अपने जीवन में उतारा है और दुनिया तक उनका पैगाम पहुंचाया है। इमाम हुसैन अमन और इंसाफ के लिए शहीद हो गए थे। उन्होंने अन्याय, अहंकार के विरुद्ध अपनी आवाज़ बुलंद की थी। उनकी ये सीख जितनी तब महत्वपूर्ण थी उससे अधिक आज की दुनिया के लिए ये अहम है।

बोहरा समाज से रिश्ता पुराना: PM
बोहरा समाज की तारीफ की करते हुए पीएम ने कहा कि बोहरा समाज के साथ मेरा भी रिश्ता बहुत ही पुराना है। मेरा सौभाग्य है कि आपका स्नेह मुझ पर हमेशा रहा। गुजरात का शायद ही कोई गांव हो जहां बोहरा व्यापारी नहीं मिलता हो। मैं जब मुख्यमंत्री था तब कदम-कदम पर बोहरा समाज ने साथ दिया। आपका यही अपनापन मुझे आज यहां खींच लाया है।