नई दिल्ली:जल्द ही पूरी तरह से भारतीय ई-कॉमर्स पोर्टल (Indian e-Commerce Portal) 'भारतईमार्केट' आ रहा है. इस कॉमर्स पोर्टल पर सिर्फ भारतीय सामान (Indian Products) बिकेगा. चीन के बने सामान (Chinese Goods) का पूरी तरह से बहिष्‍कार किया जाएगा. इसमें कोई विदेशी निवेशक (Foreign Investors) भी नहीं होगा. पोर्टल पर आने वाला डाटा भी भारतीय सर्वर पर रहेगा. व्‍यापारियों के संगठन कैट (CAIT) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल के मुताबिक, 30 अक्टूबर को पोर्टल का लोगो (Logo) लांच किया जाएगा, वहीं, दिसंबर 2020 तक इस पोर्टल को सार्वजनिक कर दिया जाएगा.

अब ऐसे 24 घंटे खुलेंगी भारतीय कारोबारियों की दुकानें
कैट का कहना है कि एक तरफ इस पोर्टल से देशभर के व्यापारियों के कारोबार में वृद्धि होगी. वहीं, दूसरी ओर इस पोर्टल के जरिये कारोबारियों की दुकाने 24 घंटे खुली रहेंगी. बता दें कि कैट देश के कारोबारियों का शीर्ष संगठन है. संगठन का दावा है कि उसके साथ देशभर के 40 हजार से ज्यादा व्यापारिक संगठन जुड़े हुए हैं, जिनके जरिये कैट देश के 7 करोड़ व्यापारियों का प्रतिनिधित्व करता है. यह पूरी दुनिया में सबसे बड़ी सप्लाई चेन है. भारतईमार्केट पर ज्‍यादा से ज्‍यादा व्यापारियों की ई-दुकानें (E-Shops) बनवाने के काम में देशभर के व्यापारिक संगठन पूरी ताकत से जुटेंगे.

ई-कॉमर्स पोर्टल में शामिल की गई हैं यह खासियतें
देश में ई-कॉमर्स के तेजी से बढ़ते प्रभाव को देखते हुए और देश के मायूस व्यापारियों के फायदे के लिए कैट ने खुद का ई-कॉमर्स पोर्टल लांच करने की घोषणा कुछ महीने पहले की थी. इसके बाद कैट लगातार भारतईमार्केट प्रोजेक्ट (bharatemarket project) पर काम करता रहा है. इस पोर्टल को बनाने के लिए अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी, डिलीवरी सिस्टम, सामान का क्वालिटी कंट्रोल, डिजिटल भुगतान (Digital Payment) का पूरा इस्तेमाल किया गया है.

कारोबारियों और ग्राहकों के बीच सर्वे कर बनाया है लोगो
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया ने आज दशहरे पर बताया कि भारतईमार्केट का लोगो देश की एक बड़ी एडवरटाइजिंग व ब्रांडिंग कंपनी ने तैयार किया है. इससे पहले कैट की ओर से किए गए एक देशव्यापी सर्वे से मिले सुझावों के आधार पर इस लोगो को बनाया गया है. सर्वे में कारोबारियों के साथ ही ग्राहकों को भी शामिल किया गया था. पोर्टल का लोगो ही 'भारतईमार्केट' की खूबियों को खुद ही बयान करता है.