हैमिल्टन:न्यूजीलैंड ने पांच मैच की सीरीज के चौथे वनडे में भारत को आठ विकेट से हरा दिया। न्यूजीलैंड ने वनडे मे भारतीय टीम को चौथी बार आठ विकेट के अंतर से हराया है। उसने घरेलू मैदान पर दूसरी बार टीम इंडिया के खिलाफ 8 विकेट से जीत हासिल की है। इससे पहले उसने 14 मार्च 2009 को ऑकलैंड में भारत को 8 विकेट से हराया था। इसके अलावा उसने 13 जून 1979 को लीड्स (इंग्लैंड) और 15 नवंबर 1995 को जमशेदपुर में भारत के खिलाफ 8 विकेट से जीत हासिल की थी।

हालांकि, टीम इंडिया शुरुआती तीन वनडे जीतकर सीरीज पहले ही अपने नाम कर चुकी है, लेकिन आज के नतीजे के बाद वह न्यूजीलैंड के खिलाफ क्लीन स्वीप करने से चूक गई। अब वह सीरीज में 3-1 से आगे है।

टीम इंडिया 92 रन ही बना पाई

चौथे वनडे में भारत की पूरी 30.5 ओवर में 92 रन पर ऑलआउट हो गई। उसके सात खिलाड़ी दहाई के अंक तक नहीं पहुंच पाए। दो खिलाड़ी शून्य पर आउट हुए। भारत की ओर से सबसे ज्यादा 18 रन युजवेंद्र चहल ने बनाए। वे नाबाद रहे। न्यूजीलैंड के लिए ट्रेंट बोल्ट ने सबसे ज्यादा 5 विकेट लिए। उन्होंने करियर में पांचवीं बार पांच विकेट लिए हैं। उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच चुना गुया। टीम इंडिया 7वीं बार 100 के अंदर ऑलआउट हुई है। उसका न्यूजीलैंड के खिलाफ यह दूसरा न्यूनतम स्कोर है। इससे पहले 10 अगस्त 2010 को दाम्बुला में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम 29.3 ओवर में 88 रन पर ऑलआउट हो गई थी।

न्यूजीलैंड ने 212 गेंद पहले लक्ष्य हासिल किया

लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड ने तेज शुरुआत की। ओपनर मार्टिन गुप्टिल ने तीन गेंद में ही 14 रन बना लिए थे। हालांकि, चौथी गेंद पर भुवनेश्वर कुमार ने उन्हें हार्दिक पंड्या के हाथों कैच करा दिया। उनकी जगह कप्तान केन विलियम्सन ने क्रीज संभाली। पिछले तीनों वनडे में 25 से ज्यादा का स्कोर करने वाले विलियम्सन इस मैच में 11 रन ही बना पाए। उनका विकेट भी भुवनेश्वर ने लिया। उनका कैच विकेटकीपर दिनेश कार्तिक ने पकड़ा। इसके बाद हेनरी निकोलस और रॉस टेलर ने तीसरे विकेट के लिए नाबाद 54 रन जोड़े। न्यूजीलैंड ने 14.4 ओवर में 93 रन बनाकर मैच अपने नाम किया।

टीम इंडिया का न्यूजीलैंड में सबसे कम स्कोर
भारतीय टीम पहली बार न्यूजीलैंड में वनडे खेलते हुए 100 रन का स्कोर पार नहीं कर पाई। यह उसका न्यूजीलैंड में सबसे कम स्कोर है। इससे पहले उसका न्यूजीलैंड में न्यूनतम स्कोर 108 रन था। जो उसने एक जनवरी 2003 को 41.1 ओवर और 26 दिसंबर 2002 को ऑकलैंड में 32.5 ओवर में बनाया था।
 

भारत की शुरुआत खराब हुई

इससे मैच में न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने टॉस जीता और गेंदबाजी का फैसला किया। बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत खराब रही। उसके दोनों ओपनर्स 23 रन के स्कोर पर पवेलियन लौट गए। भारत ने 8 विकेट महज 55 रन के स्कोर पर गंवा दिए थे। न्यूजीलैंड के बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने 10 में से चार ओवर मेडन फेंके।

किसी एक देश में सबसे कम वनडे में बोल्ट के 100 विकेट

मैच खिलाड़ी देश
49 ट्रेंट बोल्ट न्यूजीलैंड
53 वकार यूनिस यूएई
56 ग्लेन मैक्ग्रा ऑस्ट्रेलिया
56 ब्रेट ली ऑस्ट्रेलिया
60 शॉन पोलाक दक्षिण अफ्रीका
61 मखाया एनटिनी दक्षिण अफ्रीका
62 वसीम अकरम यूएई
62 शेन वार्न ऑस्ट्रेलिया

ऐसे गिरे भारतीय टीम के विकेट

  • पहला विकेट, (5.5 ओवर) : ट्रेंट बोल्ट की इस इनस्विंगर को शिखर धवन ने समझने में गलती की और गेंद उनके पैड पर जा लगी। अंपायर ने एलबीडब्ल्यू दे दिया। धवन ने एक पल रिव्यू लेने का सोचा, लेकिन फिर अंपायर का फैसला मानकर पवेलियन की ओर चल दिए। इस समय भारत के खाते में 21 रन ही जुड़े थे।
  • दूसरा विकेट, (7.6 ओवर) : बोल्ट की अंदर आती हुई गेंद को रोहित शर्मा ने खेलना चाहा। हालांकि, गेंद उनकी उम्मीद से ज्यादा स्विंग हो गई और सामने बोल्ट ने कैच पकड़ने में कोई गलती नहीं की। इस समय टीम का स्कोर 23 रन था।
  • तीसरा विकेट, (10.2 ओवर) : कोलिन डी ग्रांडहोम की यह गेंद विकेट से बाहर जा रही थी। अंबाती रायडू ने इसे सीधा खेलना चाहा, लेकिन मार्टिन गुप्टिल ने छलांग लगाते हुए शॉर्ट कवर पर कैच पकड़ लिया और टीम इंडिया 33 रन के स्कोर पर 3 विकेट गंवा चुकी थी।
  • चौथा विकेट, (10.5 ओवर) : तीन गेंद बाद ही दिनेश कार्तिक भी बिना खाता खोले पवेलियन लौट गए। ग्रांडहोम की यह गेंद बहुत ज्यादा बाहर थी। कार्तिक ने इसे कट करने की कोशिश की, लेकिन विकेट के पीछे टॉम लाथम उनका कैच पकड़ने में कोई गलती नहीं की। टीम के खाते में भी कोई रन जुड़ पाया था।
  • पांचवां विकेट, (7.6 ओवर) : टीम का स्कोर 33 रन ही था कि वनडे से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखने वाले शुभमन गिल नौ रन के निजी स्कोर पर आउट हो गए। वे बिल्कुल रोहित शर्मा की तरह आउट हुए। बोल्ट ने अपनी गेंद पर उनका कैच पकड़ लिया।
  • छठा विकेट, (13.1 ओवर) : ट्रेंट बोल्ट की यह फुल लेंथ गेंद थी। गेंद पर पीछे की ओर घूमी और केदार जाधव के आगे के पैड पर जा लगी। बोल्ट की अपील पर अंपायर ने जाधव को एलबीडब्ल्यू दे दिया। हालांकि, जाधव ने रिव्यू लिया, लेकिन फैसला मैदानी अंपायर का ही सही निकला। टीम के खाते में सिर्फ दो रन ही जुड़ पाए थे।
  • सातवां  विकेट, (16.4) : ग्रांडहोम की इस गेंद पर भुवनेश्वर को घूमने तक का भी मौका नहीं मिला और गेंद उनका विकेट ले उड़ी। भुवी सिर्फ एक रन ही बना पाए थे और टीम के स्कोरबोर्ड में 40 रन ही टंगे थे।
  • आठवां विकेट, (19.4 ओवर) : बोल्ट ने अपने पांचवें विकेट के तौर पर हार्दिक पंड्या को पवेलियन भेजा। लेग स्टम्प से बाहर जाती इस गेंद को पंड्या ने रोकने की कोशिश की, लेकिन गेंद उनके ग्लव्स से लगती हुई विकेट के पीछे लाथम के हाथों में पहुंच गई। इस समय तक टीम इंडिया 55 रन ही बना पाई थी।
  • नौवां विकेट, (29.1 ओवर) : अपना छठा वनडे खेल रहे टोड एस्टल ने कुलदीप यादव को आउट कर न्यूजीलैंड को नौवीं सफलता दिलाई। स्पिनर एस्टल की यह गेंद विकेट से बाहर जा रही थी। कुलदीप ने इसे स्वीप कर सीमा पार भेजने की कोशिश की, लेकिन डीप बैकवर्ड स्क्वायर में ग्रांडहोम ने उनका कैच लपक लिया। कुलदीप ने युजवेंद्र चहल के साथ मिलकर नौवें विकेट के लिए 25 रन जोड़े थे।
  • 10वां विकेट, (30.5 ओवर) : जेम्स नीशम की यह गेंद यॉर्कर थी। उनकी इस गेंद पर खलील अहमद अपनी ही जगह पर खड़े रह गए और गेंद उनके बल्ले के बीच से होती हुई विकेट में जा लगी। इसके साथ ही भारतीय पारी का अंत हो गया। 

भारत ने दो बदलाव किए
इस मैच से 19 साल के क्रिकेटर शुभमन गिल ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया। टॉस हारने के बाद रोहित शर्मा ने बताया कि टीम में दो बदलाव किए गए हैं। विराट की जगह शुभमन गिल को शामिल किया गया है। मोहम्मद शमी के फिट नहीं होने के कारण उनकी भरपाई खलील अहमद करेंगे। महेंद्र सिंह धोनी भी अभी फिट नहीं हैं, इसलिए इस वनडे में भी दिनेश कार्तिक बतौर विकेटकीपर खेलेंगे।
 

दोनों टीमें इस प्रकार हैं
भारत : रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, शुभमन गिल, अंबाती रायडू, केदार जाधव, दिनेश कार्तिक (विकेटकीपर), हार्दिक पंड्या, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार, युजवेंद्र चहल, खलील अहमद।

न्यूजीलैंड : केन विलियम्सन (कप्तान), मार्टिन गुप्टिल, रॉस टेलर, टॉम लाथम (विकेटकीपर), हेनरी निकोलस, जेम्स नीशम, मिशेल सैंटनर, टोड एस्टल, कोलिन डी ग्रांडहोम, मैट हेनरी, ट्रेंट बोल्ट।