-दलित संगठनों की ओर से बुलाए गए भारत बंद का व्यापक असर देखा जा रहा है..देशभर से प्रदर्शनकारियों द्वारा हिंसा और उग्र प्रदर्शन की खबर मिल रही है...जयपुर में ,गांधी नगर रेल्वे स्टेशन,टोंक फाटक और महेश नगर फाटक पर बंद समर्थकों द्वारा कई ट्रेनों को रोक कर रेल्वे ट्रैक को जाम कर दिया गया...बंद समर्थक हथियार और लाठियां लेकर घूमते दिखाई दिए...एतियातन जयपुर में रोडवेज बसों का संचालन रोक दिया गया...शहर के मुख्य सिंधी कैंप बस स्टैंड को भी बंद कर दिया गया..आगरा और सीकर रोड पर भी बसों का संचालन बंद कर दिया गया... 11 से एक बजे तक मेट्रो का संचालन भी रोक दिया गया..पुलिस ने मौके पर भीड को नियंत्रित करने का किया...राजस्थान विश्वविद्यालय के दलित छात्रों ने भी रैली निकाल कर बंद का समर्थन किया...बाडमेर में भी बंद समर्थकों द्वारा चौहाटन चौराहे पर स्थित दुकानों का सामान बाहर फेंका गया और तोड फोड की गई...पुलिस ने मौके पर पहुंच कर आंसू गैस के गोले छोडकर स्थिति को नियंत्रित किया...अजमेर में भी दो पक्षों के बीच पत्थरबाजी की घटना के बीच माहौल तनावपूर्ण हो गया...अजमेर के मुख्य गांधी भवन चौराहा पर ढाबा बंद कराने को लेकर दो पक्षों में झडप हो गई.....प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिस पर पथराव किया गया...पत्थरबाजी की घटना में एक महिला समेत दो लोगों को चोट आई... कोटा,जोधपुर,बूंदी,डूंगरपुर,भीलवाडा,बीकानेर में भी बंद समर्थकों द्वारा छिटपुट हिंसा और जगह-जगह टायर जलाकर विरोध किया गया...दलित संगठन हथियार और लाठी लेकर उग्र प्रदर्शन करते नज़र आए....अलवर में पुलिस द्वारा उग्र भीड पर फायरिंग की गई जिसमें दो लोग घायल हो गए...कई जगहों पर ट्रेनें रोक कर यातायात और जनजीवन प्रभावित करने का प्रयास किया गया...कुछ शहरों में हिंसक झड़प की घटनाएं भी सामने आई....

बिहार के हाजीपुर में बंद समर्थको ने कोचिंग संस्थान पर हमला किया...इस दौरान कोचिंग संचालकों और बंद समर्थकों के बीच पथराव और मारपीट भी हुई...दक्षिणी दिल्ली के प्रहलादपुर इलाके में भी दलित संगठनों का विरोध प्रदर्शन देखने को मिला....दलित समर्थकों ने दुकानें बंद कर प्रदर्शन किया....पंजाब के पटियाला में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोकी. इस दौरान बड़ी संख्या में महिलाएं भी मौजूद रहीं...बिहार के अररिया, सुपौल, मधुबनी, दरभंगा, जहानाबाद और आरा में भीम सेना के रेल रोकी और सड़कों पर जाम लगा दिया है...ओडिशा के संभलपुर में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोक दी है.... इस बंद का आह्वान दलित संगठन संविधान बचाओ संघर्ष समिति ने किया था. जिसके बाद दूसरे संगठन भी इसमें शामिल हो गए.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर एससी/एसटी एक्ट में कई बदलाव हुए थे. केंद्र सरकार पर आरोप लग रहे हैं कि अदालत में इस मामले पर मजबूती से पक्ष नहीं रखा गया. हालांकि, सरकार ने अब इस मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल कर दी है.