नई दिल्ली:कपड़ा, जूता, सोना-चांदी (Gold-Silver) यहां तक की रोजमर्रा में काम आने वाला किराने का बाज़ार भी कुछ न कुछ कोरोना (Corona) और लॉकडाउन (Lockdown) से प्रभावित है. लेकिन बावजूद इसके अगर यह कहें कि दिवाली (Diwali) के लिए बाज़ार में हीरे (Diamond) और नीलम स्टोन्स की बुकिंग हो रही है तो शायद आपको यह मजाक लगे. लेकिन डायमंड और स्टोन्स मार्केट की यह खबर सोलह आने सच है. ग्रहों और नक्षत्र के हिसाब से यह दो दिन बेहद खास माने जाते हैं. हालांकि कोरोना के चलते इस साल इस बाज़ार से उम्मीद नहीं की जा रही थी. बावजूद इसके 50 फीसद तक माल की बुकिंग हो चुकी है.

आखिर क्यों डायमंड और नीलम की जमकर हो रही हैं बुकिंग -अंकुर जेम्स के संचालक और रत्न एवम ज्योतिष विशेषज्ञ अंकुर जोहरी का कहना है कि वैसे तो हीरे से लेकर नीलम, पन्ना, पुखराज, मूंगा, फिरोज़ा आदि सभी स्टोन्स को धारण करने का कोई न कोई दिन है. लेकिन हिन्दू मान्यता के अनुसार वार (दिन) से बड़ा त्योहार होता है. वहीं, छोटी और बड़ी दिवाली को किसी भी तरह का स्टोन पहना जा सकता है.

दिवाली बहुत बड़ा त्योहार है. यह दिन ग्रहों और नक्षत्रों के हिसाब से बहुत अहम हो जाता है. इसलिए साल नक्षत्र के हिसाब से छोटी दिवाली को हीरा और बड़ी दिवाली को नीलम पहनने का योग बन रहा है. अगर शुक्रवार और शनिवार नहीं होते तो दूसरे स्टोन्स का योग बनता.

कौन से हीरे और नीलम की बाजार में है जबरदस्त डिमांड-रत्न एवम ज्योतिष विशेषज्ञ अंकुर जोहरी की मानें तो हीरा और स्टोन्स पहनने वाले वजन को देखते हुए उसे बताया जाता है कि कितने रत्ती (वजन) का पहनना है. वैसे इस बुकिंग को देखते हुए बाज़ार में हीरा 30 हज़ार प्रति कैरेट से लेकर एक लाख रुपये प्रति कैरेट तक का हीरा बाज़ार में मौजूद है. अगर नीलम की बात करें तो इसकी शुरुआत 3 हज़ार रुपये रत्ती से होती है. वहीं अच्छा नीलम 10 से 25 हज़ार रुपये रत्ती का मिलता है. वैसे बाज़ार में एक करोड़ के भाव तक का नीलम भी मौजूद है.