वाशिंगटन, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भारत में कमजोर बैंकों व कंपनियों के मेल पर चिंता जताई है। कोष का कहना है कि इस मेल से भारत प्रतिकूल वैश्विक वित्तीय हालात में प्रभावित हो सकता है। इसके साथ ही आईएमएफ ने सार्वजनिक बैंकों में अच्छा पूंजीकरण सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए जाने पर जोर दिया है। संस्थान ने एक ताजा अध्ययन के हवाले से कहा है कि कम लाभप्रदता व फंसे कर्ज की बड़ी समस्या के मद्देनजर भारतीय बैंकिग क्षेत्र असुरक्षित या संवेदी है। आईएमएफ के वित्तीय सलाहकार तोबियास एड्रियन ने कहा, हमने पाया कि भारतीय कंपनियां भी बड़े जोखिम में हैं। इसलिए कमजोर बैंकों व कमजोर कॉर्पोरेट का यह मेल प्रतिकूल वैश्विक वित्तीय स्थिति में भारत को जोखिमपूर्ण बनाता है।