नई दिल्‍ली:उर्वरक कंपनी इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर को-ऑपरेटिव (इफ्को) अब खाद्य प्रसंस्‍करण क्षेत्र में उतर रही है।उसने स्पेन की कंपनी कोंजेलादोस डी नवारा के साथ मिलकर लुधियाना में खाद्य प्रसंस्करण संयंत्र स्थापित करने की घोषणा की है।इसके लिए संयुक्‍त उद्यम 325 करोड़ रुपये का निवेश होगा। इस परियोजना से पंजाब में प्रत्‍यक्ष तौर पर 400 लोगों को रोजगार मिल सकेगा।वहीं 5,000 लोग अप्रत्‍यक्ष तौर जुड़ सकेंगे. कोंजेलादोस डी नवारा 220 मिलियन डॉलर की कंपनी है. कंपनी सब्जियों, फलों, जड़ी-बूटियों और तैयार व्यंजनों के प्रसंस्करण के क्षेत्र में काम करती है।

संयंत्र से किसानों की मिलेगी काफी मदद
इफ्को के एमडी डॉ. यूएस अवस्थी के अनुसार कंपनी के खाद्य प्रसंस्‍करण क्षेत्र में उतरने से वह काफी खुश हैं।इससे किसानों का भला होगा. इफ्को में हमारी यही कोशिश रहती है कि हम कैसे किसानों की बेहतरी के लिए काम कर सकते हैं. यह केंद्र सरकार की वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य में योगदान देने जैसा है। कंपनी की मौजूदगी फर्टिलाइजर, इंश्‍योरेंस, एग्री-केमिकल्‍स, फार्म फॉरेस्‍टरी, एग्री रिटेल, रूरल टेलीकॉम, फार्मर्स ट्रेनिंग, आर्गेनिक्‍स क्षेत्र के बाद अब खाद्य प्रसंस्‍करण में भी हो जाएगी।

18 माह में तैयार हो जाएगा संयंत्र
लुधियाना में लगने वाले संयंत्र पर काम 18 माह में पूरा हो जाएगा. इसके बाद 2020 तक फ्रोजन आलू, गोभी और मटर जैसे प्रसंस्‍कृत उत्‍पादों का उत्‍पादन शुरू हो जाएगा। इस संबंध में एमओयू हो गया है।इससे पहले परियोजना की व्‍यावहारिकता पर बातचीत के लिए इफ्को के चेयरमैन बीएस नकई, एमडी डॉ. यूएस अवस्‍थी, ज्‍वाइंट एमडी राकेश कपूर और स्‍पेनिश कंपनी के डीजी बेरिटो जिमेज मिले थे।