रामपुर:उत्तरप्रदेश के रामपुर से सपा के लोकसभा उम्मीदवार आजम खान ने बीजेपी प्रत्याशी जया प्रदा पर की विवादित टिप्पणी के बाद विवादों के घेरे में और महिला आयोग के निशाने पर आ गए हैं। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए आजम खान ने कहा कि मेरे बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। चुनाव आयोग जांच करा लें, अगर कुछ भी आपत्तिजनक आता है तो मैं चुनाव से हाथ पीछे कर लूंगा। बतादें, आजम ने कहा कि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया और अगर वह दोषी साबित होते हैं तो चुनाव से हाथ पीछे कर लेंगे।

दरअसल, रविवार को रामपुर की शाहबाद तहसील में आयोजित एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए आजम खान बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उन्होंने जया का नाम लिए बगैर वहां मौजूद लोगों से पूछा, 'क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी कि 10 साल जिसने रामपुर वालों का खून पिया, जिसे उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए, उसने हमारे ऊपर क्या-क्या इल्जाम नहीं लगाए।

क्या आप उसे वोट देंगे?' आजम ने आगे कहा कि आपने 10 साल जिनसे अपना प्रतिनिधित्व कराया, उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का अंडरवेअर खाकी रंग का है। 

रविवार को आजम ने कहा कि मैंने अपने बयान में किसी का नाम नहीं लिया है। मुझे पता है कि मुझे क्या कहना चाहिए। अगर कोई साबित कर सकता है कि मैंने किसी का नाम कहीं भी लिया है और किसी का अपमान किया है, तो मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा।

बहरहाल, इस बयान को गंभीरता से लेते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग ने आजम खां को नोटिसा भेजने का फैसला किया है। माना जा रहा है कि यह नोटिस आज यानी सोमवार को भेजा सकता है। नोटिस से पहले ही आजम ने अपने बयान पर सफाई दे दी है।