भुवनेश्वर:43 साल का खिताबी सूखा खत्म करने उतरे मेजबान भारत ने 14वें हॉकी वर्ल्ड कप में स्वप्निल शुरुआत की है. उसने अपने पहले मैच में दक्षिण अफ्रीका को 5-0 से करारी शिकस्त दी. भारतीय टीम ने 2010 के वर्ल्ड कप के बाद अपना पहला मैच जीता है. उसने 2010 में अपने पहले मैच में पाकिस्तान को 4-1 से हराया था. जबकि, 2014 में उसे अपने पहले मुकाबले में बेल्जियम से शिकस्त झेलनी पड़ी थी. भरतीय टीम पिछले वर्ल्ड कप में नौवें स्थान पर रही थी. भारत ने एकमात्र वर्ल्ड कप 1975 में जीता है.

मेजबान भारत के लिए सिमरनजीत सिंह ने दो गोल किए. मंदीप सिंह, आकाशदीप सिंह और ललित उपाध्याय ने एक-एक गोल किए. भारत ने इस जीत के साथ ही ग्रुप सी में पहला स्थान हासिल कर लिया है. भारत और बेल्जियम दोनों के ही ग्रुप में 3-3 अंक हैं. लेकिन भारतीय टीम बेहतर गोल औसत के कारण पहले स्थान पर है. बेल्जियम ने अपने पहले मैच में कनाडा को 2-1 से हराया. वह ग्रुप में दूसरे नंबर पर है. कनाडा की टीम तीसरे और दक्षिण अफ्रीका की टीम चौथे नंबर पर है.

भारत के लिए पहला गोल मंदीप सिंह ने किया. भारत का यह गोल पेनल्टी कॉर्नर पर आया. 10वें मिनट में मिले पेनल्टी कॉर्नर पर हरमनप्रीत सिंह ने अच्छा ड्रैग फ्लिक लगाया, जिसे अफ्रीकी गोलकीपर ने अपने दस्तानों से रोक लिया, लेकिन वे गेंद पर नियंत्रण नहीं कर सके. गोलकीपर के दस्ताने से टकराने के बाद गेंद ऊपर उछली, जिसे मंदीप सिंह ने पहले नियंत्रित किया और फिर आसानी से गोलपोस्ट में पहुंचा दिया.

भारत ने दूसरा गोल बेहद खूबसूरती से किया. यह टीमवर्क की बेहतरीन मिसाल भी थी. वरुण ने दाएं छोर से गेंद को सिमरनजीत के लिए बढ़ाया. सिमरनजीत ने गेंद को आकाशदीप सिंह की ओर डिफ्लेक्ट किया. आकाशदीप ने बिना कोई देरी किए इसे गोलपोस्ट में पहुंचा दिया. भारत की टीम हॉफ टाइम तक 2-0 से आगे थी. दक्षिण अफ्रीका ने 0-2 से पिछड़ने के बाद सुधरा खेल दिखाया. लेकिन तीसरे क्वार्टर के आखिरी मिनटों में भारत ने दो गोल और कर उसके डिफेंस की कमजोरी उजागर कर दी.

भारत ने तीसरा गोल 48वें मिनट में किया. यह बेहतरीन टीमवर्क वाला फील्ड गोल था. सिमरनजीत सिंह ने किया. इसके दो मिनट बाद ही ललित उपाध्याय ने भी बेहतरीन गोल किया. यह तीसरे क्वार्टर का आखिरी मिनट था. इस गोल ने भारत को 4-0 से आगे कर दिया. चौथे क्वार्टर के पहले ही मिनट में सिमरनजीत सिंह ने भारत की बढ़त 5-0 कर दी. भारत ने यह गोल पेनल्टी कॉर्नर पर किया. उसने डायरेक्ट शॉट लेने की बजाय इनडायरेक्ट का रास्ता चुना. अफ्रीकी डिफेंडर भारत के बदले प्लान के प्रति सजग नहीं थे. सिमरनजीत सिंह ने इसका फायदा उठाकर आसानी से गोल कर दिया. यह इस मैच में उनका दूसरा गोल था.

भारतीय टीम ने 2014 की गलती सुधारी 
भारत को 2014 में खेले गए वर्ल्ड कप में अपने पहले ही मैच में हार का सामना करना पड़ा था. तब भारत को बेल्जियम ने 3-2 से हराया था. इत्तफाक से बेल्जियम और भारत इस बार भी एक ही ग्रुप में हैं. ये दोनों टीमें दो दिसंबर को आमने-सामने होंगी. बेल्जियम ने अपने पहले मैच में कनाडा को हराकर अच्छी शुरुआत की है. भारत की रैंकिंग पांच और बेल्जियम की रैंकिंग तीन है. पिछले रिकॉर्ड और रैंकिंग के लिहाज से भारत के लिए बेल्जियम से मुकाबले को सबसे मुश्किल माना जा रहा है.

आकाशदीप का वर्ल्ड कप में छठा गोल 
आकाशदीप ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत के लिए दूसरा गोल किया. यह टूर्नामेंट में उनका पहला और वर्ल्ड कप इतिहास में ओवरऑल छठा गोल है. उन्होंने पिछले विश्व कप में भी पांच गोल किए थे. वे 2014 में सबसे अधिक गोल करने वाले भारतीय खिलाड़ी थे. तब उनसे ज्यादा गोल सिर्फ तीन खिलाड़ी ही कर पाए थे.

हमें और बेहतर खेल दिखाने की जरूरत: कोच  
भारतीय कोच हरेंद्र सिंह ने हाफ टाइम के समय कहा, ‘हम दक्षिण अफ्रीका पर दबाव डाल रहे हैं. लेकिन हमें और बेहतर खेल दिखाने की जरूरत है. हम गोल करने के करीब पहुंच रहे हैं, लेकिन जल्दी निर्णय लेने के अभाव में मौकों को भुना नहीं पा रहे हैं.