नई दिल्ली, बिहार में पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश हो रही है। अब लोगों को बारिश की वजह से मुसिबतों का सामना करना पड़ रहा है। अररिया और सुपौल जिले में बारिश और बाढ़ से हालात बेहद खराब हैं। वहीं असम के 19 जिले और 1752 गांव बाढ़ की चपेट में हैं। और पश्तिम बंगाल के कई जिलों में भी बाढ़ अपना विकराल रूप दिखा रही है।

बिहार पर भारी पड़ने वाले हैं अगले 4 दिन

बिहार में स्थिति आगे और विकराल होने वाली है, क्योंकि बिहार पर अगले चार दिन भारी पड़ने वाले हैं। अररिया जिले में कल हुई जोरदार बारिश से बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। शहर में जगह-जगह बंद पड़ी गाड़ियों को धक्का देकर आगे बढ़ा रहे हैं। बिहार का शोक कही जाने वाली कोसी नदी ने सुपौल में अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है। सुपौल जिले के कई गांव में कोसी नदी की चपेट में आ गए हैं।

सुपौल के घुरन गांव में लोग जान जोखिम में डालकर नदी को पार करने को मजबूर हैं। दरअसल नेपाल में भारी बारिश की वजह से पानी छोड़ा गया है, जिसकी वजह से कोसी नदी में बाढ़ आ गई है। ये गांव भी बाढ़ की चपेट में है। गावं के बच्चे जुगाड़ से बनी नाव से बाढ़ को पार करने की कोशिश में हैं। मौसम विभाग के मुताबिक बिहार में अगले 4 दिन भारी बारिश की आशंका है।

असम में फिर से आई बाढ़

असम में बाढ़ ने दोबारा विनाश की कहानी लिखनी शुरू कर दी है। राज्य के 19 जिलों के करीब 12 लाख लोग बाढ़ की चपेट में हैं। राज्य में बाढ़ से मौतों का सिलसिला भी जारी है। अब तक पांच लोगों की जान जा चुकी है। त्रिपुरा के अगरतला में भी बारिश मुसीबत बनकर आई है। गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र नदी में बाढ़ से हालात बिगड़ते जा रहे हैं। नदी का पानी खतरे के निशान से करीब पहुंच चुका है।

असम के कोकराझार के बाढ़ प्रभावित इलाके में राहत और बचाव की टीम बाढ़ में घिरे लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने में जुटी है। लोग जुगाड़ से बनी नाव से नदी को पार करने के लिए मजबूर हैं। असम के 19 जिले और 1752 गांव बाढ़ की चपेट में हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 19 जिलों में 11 लाख लोग बाढ़ में घिरे हुए हैं। बाढ़ में मरने वालों की ताजा संख्या पांच है। अब तक बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 89 हो चुकी है।

त्रिपुरा की राजधानी में जनजीवन अस्तव्यस्त

उत्तर पूर्वी राज्य त्रिपुरा की राजधानी में भी बाढ़ की वजह से जनजीवन अस्तव्यस्त है। बाढ़ की वजह से अगरतला के कई इलाकों में पानी भरा हुआ है। अगरतला के निचले इलाकों में लोगों के घरों में पानी घुसा हुआ है। हालात ये हैं कि अगरतला में 20 हजार लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। जहां पर उनके खाने-पीने का इंतजाम किया गया है। यहां भी बाढ़ ने लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है।

बंगाल में लगातार हो रही है भारी बारिश

बंगाल में लगातार हो रही भारी बारिश ने कई जिलों में बाढ़ की स्थिति पैदा कर दी है। उत्तरी बंगाल के अलीपुरद्वार, पश्चिमी बंगाल के जलपाईगुड़ी, दार्जिलिंग और दिनाजपुर जिलों में बाढ़ ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। घरों में पानी भरने की वजह से लोग बेघर हो गए हैं। नदियों में पानी भरने की वजह से पास के इलाकों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। बाढ़ में फंसे लोगों को सरकार की तरफ से राहत सामग्री भेजने समेत और भी कई जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।