जयपुर: बंगाल की खाड़ी से उठे तूफान डे के असर ने प्रदेश में एक बार फिर मानसून की वापसी करवा दी है। इस चक्रवात के कारण देश के अलग हिस्सों में बारिश होने की संभावना बनी है। वहीं मौसम विभाग ने अगले चौबीस घंटों में राज्य के 17 जिलों में भारी बारिश का चेतावनी जारी है।

अजमेर, झालावाड़ समेत कई जिलों में रूक-रूक कर बारिश होती रही
मौसम विभाग ने मुख्य सचिव और आपदा प्रबंधन को भी मेल भेजकर अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं। बीते चौबीस घंटों के दौरान भी प्रदेश के कई हिस्सों में अच्छी बारिश हुई है। इनमें झालावाड़, अजमेर, कोटा, बारां, झूंझुनू जिले में शनिवार को दिनभर रूक रूककर बारिश का दौर चलता रहा।

जयपुर में शनिवार सुबह से मौसम का मिजाज बदला रहा। सुबह 9 बजे से चला रिमझिम फुहार का दौर देर शाम तक चलता रहा और शाम करीब 7 बजे अलग अलग इलाकों में मध्यम और तेज बारिश का दौर शुरू हुआ जो देर रात तक चलता रहा। बीते चौबीस घंटे दौरान सबसे ज्यादा झालावाड़ के बकानी में 8, झूंझुनू के पिलानी में 6, झालावाड़ में 5 सेमी बारिश हुई। राजधानी जयपुर में 5.4 मिमी बारिश रिकाॅर्ड की गई। 

इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी : मौसम विभाग अनुसार सवाई माधोपुर, कोटा, झूंझुनू, भीलवाड़ा, बूंदी, झालावाड़, बारां, उदयपुर, बांसवाड़ा, राजसमंद, सिरोही, पाली, नागौर, चूरू, डूंगरपुर, प्रतापगढ़ और सिरोही में अगले 24 चौबीस घंटे में भारी बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने आपदा प्रबंधन विभाग को इन जिलों में भारी बरसात को देखते हुए अलर्ट रहने के लिए भी सचेत किया है।

बीसलपुर बांध के लिए राहत : यदि मौसम विभाग की भविष्यवाणी सच हुई तो जयपुर की लाइफलाइन बीसलपुर बांध में भी पानी की आवक हो सकती है। मौसम विभाग ने जिन 17 जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई है उनमें तीन जिले भीलवाड़ा और चित्तौडगढ़ और राजसमंद भी शामिल हैै। इससे बांध में पानी की आवक बढ़ती है।

इसलिए बनी संभावना : मौसम विभाग के डायरेक्टर शिव गणेश ने बताया की बंगाल की खाड़ी से सक्रिय हुआ साइक्लोन डे ओडीशा और आंधप्रदेश में होते हुए नॉर्थ वेस्ट की ओर आगे बढ़ा। इसका असर राजस्थान पर भी है जिससे एक बार फिर तेज बारिश की संभावना बनी है।