अयोध्या, सुप्रीम कोर्ट में बहुप्रतीक्षित राममंदिर-बाबरी मस्जिद मामले में सुनवाई आज से शुरू होगी। वहीं अयोध्या के हिन्दू और मुस्लिम पक्षकारों एवं धर्मगुरुओं ने कहा कि उच्चतम न्यायालय में राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद मामले पर आज से हो रही सुनवाई अब निरंतर होनी चाहिए। इस मुकदमे की पिछली तारीख पर उच्चतम ने सभी प्रपत्रों का अनुवाद करने का निर्देश दिया था।

श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष एवं मणिराम दास छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास ने कहा कि इस मामले में सुनवाई लगातार होनी चाहिए, क्योंकि देश का सम्पूर्ण हिन्दू चाहता है कि अयोध्या में सौहाद्र्रपूर्ण वातावरण में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बने। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम के जन्मस्थल पर पूजा और पाठ नित्य हो रहा है केवल मंदिर को भव्यता देनी है। विवादित श्रीरामजन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सतेन्द्र दास ने कहा कि देश के उच्चतम न्यायालय में सुनवाई अब रुकनी नहीं चाहिए।

उन्होंने कहा कि जहां रामलला विराजमान हैं उसी स्थान पर भगवान राम का जन्मस्थान है। मुद्दई बाबरी मस्जिद स्व. हाजी मोहम्मद हासिम अंसारी के उत्तराधिकारी एवं बाबरी मस्जिद के पक्षकार मोहम्मद इकबाल ने कहा कि रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद पर आज से सुप्रीम कोर्ट में शुरू हो रही सुनवाई अब निरंतर होनी चाहिए जिससे देश में सौहाद्र्र का वातावरण बना रहे और इससे दोनों पक्ष राजनीति न कर सकें। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. नजमुल हसन गनी ने भी इस मामले में कहा कि सुनवाई अब निरंतर होना चाहिए। अब इस विवाद पर दोनों पक्षों से बातचीत नहीं होनी चाहिए।