अहमदाबाद:पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने आज घोषणा की कि सरकारी नौकरियों और शिक्षा में अपने समुदाय के सदस्यों को आरक्षण की मांग पर जोर देने के लिए वह 25 अगस्त से अनिश्चितकालीन अनशन शुरू करेंगे. 24 वर्षीय हार्दिक पटेल ने आरक्षण के लिए अपनी मांग पूरी होने तक अपना अनशन जारी रखने का संकल्प लिया.

पटेल ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर पोस्ट वीडियो संदेश में कहा कि अपने समुदाय के सदस्यों के लिए आरक्षण प्राप्त करना उनकी प्राथमिक चिंता है.

उन्होंने कहा , ‘यह हमारी आखिरी लड़ाई है. या तो मैं अपनी जान दे दूंगा या हम आरक्षण प्राप्त करेंगे. इसके लिए हमें आपके समर्थन की जरूरत है. यह लड़ाई आखिरी चरण में आ गई है.

शनिवार को धरने पर बैठे हार्दिक, अल्पेश और जिग्नेश
इससे पहले शनिवार को शराब के कथित ठिकाने का भंडाफोड़ करने के लिए छापा मारने पर अपने विरुद्ध मामला दर्ज होने के बाद गुजरात के विधायक अल्पेश ठाकोर तथा जिग्नेश मेवाणी और हार्दिक पटेल शराब तस्करों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए धरने पर बैठ गए थे.

तीनों ने कथित शराब अड्डे का भंडाफोड़ करने के लिए बृहस्पतिवार को गांधीनगर के आदिवडा इलाके में कंचनबेन मकवाना के घर पर छापेमारी करने का दावा किया. उनके अनुसार इससे पहले वे उन चार व्यक्तियों से मिले थे जो अहमदाबाद में कथित रुप से जहरीली शराब पीने के बाद अस्पताल में भर्ती कराए गए थे. इसके बाद मकवाना ने उनके विरुद्ध अनधिकृत तरीके से प्रवेश का मामला दर्ज कराया.

तीनों नेता शनिवार को आत्मसमर्पण करने के लिए पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र यादव के कार्यालय गए. पुलिस ने उन्हें तत्काल गिरफ्तार करने से इनकार कर दिया और कहा कि मामले की सघन जांच की जाएगी.

तीनों ने भाजपा सरकार पर शराब तस्करों को बचाने का आरोप लगाया. पुलिस अधीक्षक से भेंट करने के बाद वे और उनके साथी धरने पर बैठ गए. उन्होंने उस कथित शराब तस्कर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जिसके घर पर उन्होंने छापा मारा था. बता दें गुजरात में 1960 से ही शराब बंदी है.