इस्लामाबाद: मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद ने शुक्रवार (6 अप्रैल) को उसकी राजनीतिक पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) पर अमेरिकी प्रतिबंध का मजाक उड़ाया, अमेरिका ने बीते 3 अप्रैल को आतंकवादियों की सूची जारी की थी, जिसमें उन्होंने जमात-उद-दावा (जेयूडी) के एमएमएल को विदेशी आतंकी संगठन बताते हुए इसका नाम शामिल किया था, सईद ने अमेरिकी प्रतिबंध पर मुंह चिढ़ाते हुए कहा कि यह उनके पार्टी की विश्वसनीयता को जाहिर करता है, पाकिस्तान में अगले साल आम चुनाव होने हैं, 

कश्मीर के लिए पूरे पाकिस्तान में समर्थन जुटाने में लगे हाफिज सईद ने एक रैली में कहा, 'अमेरिका ने जिस पार्टी पर प्रतिबंध लगाया है, क्या वाकई में वह कुछ विश्वसनीयता रखती है?' इसके साथ ही उसने कहा कि अमेरिकी यह अच्छी तरह से समझते हैं कि यही (एमएमएल) एक ऐसी राजनीतिक पार्टी है जिसके साथ वह साझेदारी नहीं कर सकते, सईद ने प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी से कहा कि कश्मीर के लिए वह अपना बचा हुआ समय ऑफिस में बिताएं, उसने कहा, 'अमेरिका आपका (शाहिद खाकान अब्बासी का) नाम अपने वफादरों की सूची में शामिल करेगा, लेकिन वह एक सम्मान की बात होगी?

उसने पीएम अब्बासी से कहा कि कश्मीर में हो रहे अत्याचारों के खिलाफ वे अपने कैबिनेट के साथ संयुक्त राष्ट्र के कार्यालय के बाहर जाकर बैठ जाएं, रैली में भारत विरोधी नारे भी लगे, यह रैली इस्लामाबाद में आयोजित की गई थी, पाकिस्तान के बंदरगाह शहर कहे जाने वाले कराची और देश में कई दूसरे स्थानों पर भी ‘कश्मीर एकजुटता दिवस’ के मौके पर इस तरह के आयोजन किए गए थे,

आतंकवादी सूची में लश्कर-ए-तैयबा मोर्चा व मिल्ली मुस्लिम लीग भी
गौरतलब है कि अमेरिका ने लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) पर शिकंजा कसने के लिए उसकी राजनीतिक पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) और सात नेताओं के साथ ही एक अन्य मोर्चे के संगठन को आतंकवादी समूहों की सूची में शामिल कर लिया, अमेरिका के विदेश व राजस्व विभागों ने बीते (2 अप्रैल) को घोषणा कर कहा कि एमएमएल जो एलटीई प्रमुख हाफिज सईद के पोस्टर के साथ खुले तौर पर अभियान चलाता है, को दो विभिन्न कानून के तहत विदेशी आतंकवादी संगठन (एफटीओ) और विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी (एसडीजीटी) में सूचीबद्ध किया है,

तहरीक-ए-आजादी-ए-कश्मीर भी आतंकी सूची में
विदेश विभाग ने कहा कि दूसरा एलईटी मोर्चा तहरीक-ए-आजादी-ए-कश्मीर (टीएजेके) को भी आतंकवादी की सूची में शामिल किया गया है, राजस्व विभाग ने कहा कि एमएमएल अध्यक्ष सैफुल्लाह खालिद, महासचिव फय्याज अहमद और पांच अन्य को भी लक्षित किया गया है, विदेश विभाग के अनुसार, "एलईटी का पाकिस्तान में स्वतंत्र रूप से काम करना जारी है, वह सार्वजनिक रैलियों का आयोजन करता है, धन जुटाता है और आतंकवादी हमलों के लिए साजिश रचता है व उसका प्रशिक्षण देता है," विभाग के आतंकवाद विरोधी समन्वयक नैथन ए, सालेस ने वॉशिंगटन में कहा, "कोई गलती न करें, एलटी चाहे खुद को जिस किसी नाम से बुलाए, वह एक हिंसक आतंकवादी समूह बना हुआ है,"

राजस्व विभाग की उपसचिव सिगल मंडेलकर ने चेतावनी देते हुए कहा कि मिल्ली मुस्लिम लीग के साथ काम करने वालों और उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान करने वालों को दोबारा विचार करना चाहिए कि ऐसा करना अमेरिकी प्रतिबंधों के खिलाफ हो सकता है,  उन्होंने कहा, "राजस्व विभाग मिल्ली मुस्लिम लीग और सात वैश्विक आतंकवादियों के एक समूह को लक्षित कर रही है जो पाकिस्तान की राजनीतिक प्रक्रिया को कमजोर करने के लश्कर-ए-तैयबा के प्रयासों में शामिल हैं,"  बता दें कि एलईटी मुंबई में वर्ष 2008 में हुए हमलों का जिम्मेदार है, जिसमें छह अमेरिकी सहित 166 लोग मारे गए थे,