नई दिल्ली, सरकार ने खतरनाक ऑनलाइन गेम ब्लू व्हेल चैलेंज के लिंक को तुरंत हटाने के लिए गूगल, फेसबुक, व्हाट्सऐप, इंस्टाग्राम, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया और याहू इंडिया की इंटरनेट कंपनियों को निर्देश दिया है, जिस कारण भारत और अन्य देशों में कई बच्चों ने आत्महत्या की है। इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्रालय ने 11 अगस्त को लिखी चिट्ठी में सोशल साइट्स को यह निर्देश दिया है कि सोशल मीडिया का उपयोग करते हुए यह गेम बच्चों को खेलने के लिए भेजा जा रहा है। इस गेम में ऐसे भड़काऊ स्टेज हैं जिसकी वजह है बच्चे या तो आत्महत्या कर ले रहे हैं या बुरी तरह जख्मी हो जा रहे हैं।

सरकार ने इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को यह निर्देश दिया है कि ब्लू व्हेल गेम या इस तरह के किसी भी गेम के लिंक को अपने माध्यम से जाने न दें और इसके लिंक्स को तुरंत हटा दें। सरकार ने इन सोशल साइट्स को यह भी निर्देश दिया है कि वे इस तरह के गेम को प्रचारित करने वालों के बारे में पुलिस और संबंधित प्रशासन को तुरंत सूचित करें। एक आधिकारिक सूत्र ने कहा कि पत्र, कानून और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद द्वारा दिए गए निर्देशों के बाद जारी किए गए।

क्या है 'द ब्लू व्हेल गेम'

'द ब्लू व्हेल गेम' या 'द ब्लू व्हेल चैलेंज' रूस में बना इंटरनेट गेम है। इस गेम में यूजर को 50 दिन तक कुछ खास टास्क बताए जाते हैं। एक-एक कर सारे टास्क पूरे करते रहने पर आखिरी में सुसाइड के लिए उकसाया जाता है। साथ ही हर टास्क पूरा होने के साथ प्लेयर को अपने हाथ पर एक कट लगाने के लिए कहा जाता है। आखिरी में तो आकृति उभरती है, वो व्हेल की होती है।