मुंबई, बॉलीवुड में असरानी को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अपने हास्य अभिनय से लगभग पांच दशक से सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया हुआ है। आज उनके जन्मदिन पर आइए एक नजर डालते है उनके जीवन के कुछ दिलचस्प किस्सों पर। 01 जनवरी 1941 को जयपुर में जन्में गोवद्धन असरानी बचपन के दिनों से हीं अभिनेता बनने का ख्वाब देखा करते है।

वर्ष 1963 में अभिनेता बनने का सपना लिए असरानी मुंबई आ गये जहां उनकी मुलाकात किशोर साहू और ऋषिकेश मुखर्जी जैसे फिल्मकारों से हुई जिनके कहने पर असरानी ने फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया पुणे में दाखिला ले लिया। वर्ष 1966 में पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट से अभिनय की पढ़ाई पूरी करने के बाद असरानी मुंबई आ गये। असरानी ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1967 में प्रदर्शित फिल्म हरे कांच की चूडिय़ां से की। इन सबके बीच असरानी ने कुछ गुजराती फिल्मों में भी काम किया। वर्ष 1971 में प्रदर्शित फिल्म मेरे अपने के जरिये असरानी कुछ हद तक नोटिस किए गए।

वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म अभिमान के जरिए असरानी फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये। ऋषिकेश मुखर्जी के निर्देशन में बनी फिल्म अभिमान में असरानी ने अमिताभ बच्चन के दोस्त की भूमिका निभाई थी। इस फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये असरानी सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामांकित भी किये गए।

वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म शोले असरानी के सिने करियर के लिये मील का पत्थर साबित हुयी। रमेश सिप्पी के निर्देशन में बनी फिल्म शोले में असरानी ने एक जेलर की भूमिका निभायी थी। इस फिल्म में असरानी का बोला गया यह संवाद..हम अंग्रेजों के जमाने के जेलर है..आज भी सिनेप्रेमी नहीं भूल पाये है। वर्ष 1977 में प्रदर्शित फिल्म चला मुरारी हीरो बनने के जरिये असरानी ने फिल्म निर्देशन के क्षेत्र में भी कदम रख दिया। इस फिल्म में असरानी ने मुख्य अभिनेता की भूमिका निभायी थी। इस फिल्म में असरानी के अपोजिट बिंदिया गोस्वामी थी। कॉमेडी से भरपूर इस फिल्म को दर्शकों ने बेहद पसंद किया था।

चला मुरारी हीरो बनने की सफलता के बाद असरानी ने सलाम मेम साब हम नहीं सुधरगें दिल ही तो है और उड़ान जैसी फिल्मों का निर्देशन किया। असरानी को अपने सिने करियर में दो बार सर्वश्रेष्ठ हास्य कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया। असरानी ने अपने दौर के सभी दिग्गज कलकारो के साथ काम किया। असरानी ने सुपरस्टार राजेश खन्ना के साथ 25 फिल्मों में काम किया। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ भी असरानी ने कई फिल्मों में काम किया। असरानी ने अपने सिने करियर में लगभग 400 फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखाया है। असरानी आज भी उसी जोशो खरोश के साथ फिल्म इंडस्ट्री में सक्रिय है।