नई दिल्ली. देश के अलग-अलग हिस्सों में धनतेरस (Dhanteras) दो दिन मनाया जा रहा है. बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में धनतेरस 12 और 13 नवंबर को मनाया जा रहा है. खासतौर पर अगर दिल्ली-एनसीआर की बात करें तो आज धनतेरस मनाया जा रहा है. ऐसे में अगर आप आज सोना (Gold) और चांदी (Silver) खरीदने जा रहे हैं. इन बातों का रखें विशेष ख्याल. गोल्ड की शुद्धता के बारे में आपको पता होना जरूरी है क्योंकि कई बार ग्राहकों को शुद्धता की पहचान नहीं होती, जिसकी वजह से उनको नुकसान हो जाता है. आपको पहले से ही 14 कैरेट से लेकर 24 कैरेट तक के गोल्ड का लेटेस्ट रेट (Gold Price Today) पता होना चाहिए. यहां पर हम आपको सोने की शुद्धता जांचने के तरीकों को बारे में बताने जा रहे हैं. ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (BIS) के अनुसार, सोने की शुद्धता जांचने के चार प्रमुख तरीके हैं, जिसके जरिए आप असली सोने की पहचान कर सकते हैं.

BSI करती है हॉलमार्क
बीआईएस (BIS) हॉलमार्क देश में एकमात्र ऐसी एजेंसी है, जो सोने की शुद्धता जांचने के लिए हॉलमार्किंग करती है. इंडियन गवर्नमेंट की ओर से सोने की शुद्धता जांचने का काम इस एजेंसी द्वारा ही किया जाता है. बता दें आज के समय में सभी ज्वेलर्स हॉलमार्क वाली ज्वेलरी नहीं बेच रहे हैं. कुछ खुद हॉलमार्किंग करते हैं इसलिए खरीदने से पहले, आपको देखना चाहिए कि जो गहने आप खरीद रहे हैं उसमें बीआईएस की हॉलमार्किंग की गई है या नहीं.

BSI की वेबसाइट के मुताबिक, 3 तरह से हॉलमार्किंग की जाती है-

>> 22K916: 22 कैरेट सोने के लिए
>> 18K750: 18 कैरेट सोने के लिए
>> 14K585: 14 कैरेट सोने के लिए

सोना खरीदने से पहले जान लें लेटेस्ट रेट
अगर आप सोना या चांदी खरीदने जा रहे हैं तो सोने-चांदी के लेटेस्ट रेट आपको पता होने चाहिए. आप IBJA यानी इंडियन बुलियन ज्वेलर्स एसोसिएशन की वेबसाइट https://ibjarates.com/ पर जाकर लेटेस्ट रेट चेक कर सकते हैं. बता दें इस वेबसाइट पर दिए गए रेट्स में जीएसटी शामिल नहीं होती है.

ज्वेलरी के लिए करते हैं 22 कैरेट गोल्ड का इस्तेमाल
असली सोना 24 कैरेट का ही होता है, लेकिन इसके अभूषण नहीं बनते, क्योंकि वो बेहद मुलायम होता है. आज के समय में आभूषणों के लिए 22 कैरेट सोने का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें 91.66 फीसद सोना होता है.

ज्वेलरी खरीदने जाएं तो जरूर लें बिल
इसके अलावा अगर आप ज्वेलरी खरीदने जा रहे हैं तो बिल जरूर मांगे. इस बिल में आपकी सोने की शुद्धता और रेट आदि की जानकारी दी रहती है. अगर आपके पास बिल नहीं होगा तो आप सोना बेचते समय मोलभाव नहीं कर पाएंगे.