नई दिल्ली : रूस में जारी फीफा वर्ल्डकप 2018 के ग्रुप मैच समाप्त हो चुके हैं और अब सभी ग्रुप की टॉप दो टीमों का फैसला हो चुका है। इस तरह से यह भी तय हो चुका है कि अब नॉकआउट में किस टीम का मुकाबला किससे होगा। इस बार ग्रुप मुकाबले में सबसे चौकाने वाला नतीजा पूर्व विजेता जर्मनी का ग्रुप दौर से ही बाहर हो जाना रहा।

जर्मनी अपने ग्रुप में दो टीमों से हारा। जबकि वह जिसे माना जा रहा था कि उसे सबसे कड़ी टक्कर देगी उसे हराने में वह सफल रहा। जर्मनी को पहले मैच में मैक्सिको से हार का सामना करना पड़ा तो वहीं दक्षिण कोरिया से भी उसे 2-0 की अप्रत्याशित हार का सामना करना पड़ा। इसके अलावा फीफा वर्ल्डकप इतिहास में पहली बार हुआ कि किसी एशियाई देश ने लैटिन अमेरिका देश को हराया। जापान ने कोलंबिया को हरा कर यह उपलब्धि हासिल की।

शनिवार को 30 जून से ही नाकआउट मुकाबले शुरू होने जा रहे हैं। पहले मैच में ग्रुप ए की टॉप टीम उरुग्वे का मुकाबला ग्रुप बी की दूसरे नंबर की टीम पुर्तगाल से होगा। यह मुकाबला काफी रोमांचक होने की उम्मीद है। उरुग्वे ने अपने ग्रुप के तीनों मैच जीते हैं जिसमें उसने रूस, साऊदी अरब और मिस्र तीनों को हराया है। वहीं पुर्तागाल ने ग्रुप में शीर्ष पर रही स्पेन के सा ड्रॉ खेलकर उसके साथ समान अंक, पांच- पांच अंक बांटे लेकिन स्पेन के ज्यादा गोलकरने की वजह से स्पेन ग्रुप पर टॉप पर रहा और पुर्तगाल को दूसरे स्थान पर संतोष करना पड़ा।

मैच में जहां पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो पर सबकी नजर रहेगी तो वहीं उरुग्वे के लुइस सुआरेज पर भी निगाहें होंगी। उरूग्वे ने इस बार अपने ग्रुप मैचों में एक भी गोल नहीं खाया है। ऐसा उसने पांचवी बार किया है। इससे पहले उरुग्वे ने 1930, 1950, 1954 और 2010 में ग्रुप दौर में अपने खिलाफ कोई गोल नहीं होने दिया था।

शनिवार को ही एक और तगड़ा मुकाबला देखने को मिलेगा जो फ्रांस और अर्जेंटीना के बीच होगा। इस बार लोकप्रिय टीम अर्जेंटीना को ग्रुप दौर से नॉकआउट दौर में जाने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। उसके स्टार खिलाड़ी लियोनल मेसी आशा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर सके और आइसलैंड के खिलाफ मुकाबले में एक पेनाल्टी भी मिसकर गए जिससे अर्जेंटीना को अपने पहले ही ग्रुप मैच में ड्रॉ से संतोष करना पड़ा उसके बाद उसकी मुसीबतें और बढ़ गईं जब क्रोएशिया ने उसे 3-0 से मात दे दी।

ऐसे में अर्जेंटीना अगर मगर के गणित में उलझ गया लेकिन नाइजीरिया के खिलाफ 2-1 से जीत के दम पर अर्जेंटीना ग्रुप डी में दूसरा स्थान पाने में कामयाब रहा। इससे पहले दो मैचों में जीत से महरूम रहने वाली इस टीम में उत्साह लौट आया है और उम्मीद है कि ग्रुप सी की टॉप टीम फ्रांस को वह कड़ी टक्कर दे सकेगी। नाइजीरिया के खिलाफ किए अपने गोल के बाद मेसी का आत्मविश्वास भी काफी लौट आया लगता है। वहीं फ्रांस अपने ग्रुप में एक भी मैच नहीं हारा है। हालांकि उसने डेनमार्क के साथ जरूर ड्रॉ खेला लेकिन उसने पेरू और ऑस्ट्रेलिया को जरूर मात दी है। इसके बाद रविवार एक जुलाई को ग्रुप बी की टॉप टीम स्पेन का मुकाबला ग्रुप ए की रूस से होगा।

इस मैच में बेशक स्पेन का पलड़ा भारी होगा क्योंकि रूस शुरू से ही इस टूर्नामेंट में कमजोर टीम मानी जा रही थी लेकिन मेजबान रूस ने पहले ही मैच में साऊदी अरब को 5-0 से हराकर सनसनी फैला दी थी। इसके बाद उसने मिस्र को भी 3-1 से हराया था। हालाकि वह उरुग्वे जैसी तगड़ी टीम से 3-0 से जरूर हार गई थी लेकिन स्पेन को वह कड़ी टक्कर जरूर देगी। वहीं स्पेन को अपने ग्रुप में पुर्तागाल से कड़ी चुनौती मिली थी लेकिन उसके बाद ग्रुप मैचों में उसने को बेहतरीन प्रदर्शन किया हो ऐसा नहीं है। उसने ईरान को 1-0 से हराने में कामयाबी जरूर मिली थी लेकिन मोरक्को से उसे ड्रॉ से संतोष करना पड़ा था।

रविवार को ही एक अन्य मुकाबले में ग्रुप डी की टॉप टीम क्रोएशिया का मुकाबला ग्रुप सी की दूसरी टीम डेनमार्क से होगा। डेनमार्क ने फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया के साथ ड्रॉ खेला तो वहीं उसे पेरू के खिलाफ जीत जरूर हासिल हुई लेकिन उसे क्रोएशिया जैसी तगड़ी टीम के रोकना होगा जो अपने ग्रुप में अर्जेंटीना, नाइजीरिया और आइसलैंड तीनों को हरा चुकी है। क्रोएशिया भी इस टूर्नामेंट में काफी तगड़ी टीम मानी जा रही है। ब्राजील मैक्सिको मैच में होगी सबकी नजर सोमवार 2 जुलाई को ब्राजील और मैक्सिको के बीच मुकाबला होगा। ब्राजील ग्रुप ई में दो जीत और एक ड्रॉ मैचों के साथ टॉप पर रहा जिसमें उसने स्विटजरलैंड के साथ ड्रॉ खेला और सर्बिया और कोस्टारिका को हराने में कामयाब रहा। अभी तक टीम के स्टार खिलाड़ी नेमार अपने पूरे फॉर्म में नहीं दिखाई दिए हैं लेकिन टीम का प्रदर्शन ऐसा नहीं रहा है कि वह मैक्सिको को कड़ी टक्कर देने की स्थिति में नहीं हो। वहीं दूसरी तरफ ग्रुप एफ में जर्मनी को मात देने वाली टीम मैक्सिको के हौसले बुलंद तो हैं लेकिन स्वीडन के खिलाफ 3-0 से हारने के कारण उसके उत्साह में कमी जरूर आएगी।

वहीं उसी दिन दूसरा मुकाबला ग्रुप जी की शीर्ष टीम बेल्जियम और  ग्रुप एच की दूसरे नंबर की टीम जापान के बीच होगा। जापान ने इतिहास रचते हुए पहली बार एशियाई टीम के तौर पर लैटिन अमेरिका देश को हराया। जापान ने कोलंबिया को हरा कर यह उपलब्धि हासिल की जो कि ग्रुप में टॉप पर रहने में कामयाब रहा। जापान जरूर ग्रुप का अंतिम मैच पोलैंड से हार गया। लेकिन फीफा वर्ल्डकप इतिहास में तीसरी बार नॉकआउट दौर में जगह बनाने में कामयाब हुआ। लेकिन उसका मुकाबला टूर्नामेंट की प्रबल दावेदार बेल्जियम से होगा जो अपने ग्रुप जी में तीनों मैच जीत कर टॉप  पर रहा है। अंतिम ग्रुप मैच में उसे इंग्लैंड जैसी तगड़ी टीम को 1-0 से मात दी थी।

स्वीडन स्विट्जरलैंड में होगी कांटे की टक्कर
नॉकआउट दौर के अंतिम दिन तीन जुलाई मंगलवार को पहला मुकाबला स्वीडन और स्विट्जरलैंड से होगा स्वीडन ग्रुप एफ में शीर्ष पर रही थी और केवल जर्मनी से हारी थी वहीं स्विट्जरलैंड अपने ग्रुप में ब्राजील जैसी तगड़ी टीम को ड्रॉ पर रोकने में कामयाब रही थी।  इस मैच में भी कड़ा मुकाबला देखे जाने की उम्मीद है। इसी दिन नॉकआउट दौर का अंतिम मुकाबला कोलंबिया और इंग्लैंड के बीच होना है कोलंबिया अपने ग्रुप एच में जापान से हारने के बावजूद अपने ग्रुप के बाकी मैच जीतकर टॉप पर रहने में कामयाब रही। वहीं इंग्लैंड ने भी अपने ग्रुप में दो मैच जीते हालाकि वह बेल्जियम को हरा नहीं सकी लेकिन कोलंबिया इंग्लैंड को कड़ी टक्कर देगी इतना तय है।