नई दिल्ली: दुनियाभर में जून का तीसरा रविवार फादर्स डे यानी पितृ दिवस के रूप में मनाया जाता है. ये दिन पिता को समर्पित होता है. पितृत्व, पितृत्व-बंधन और समाज में पिताओं के प्रभाव को सम्मान देने के लिए इस दिन को मनाया जाता है. इस बार फादर्स डे 17 जून को मनाया जाएगा. पिता का जीवन में क्या महत्व होता है और वे कैसे अपने बच्चों की रक्षा करते हुए उनका ख्याल रखते हैं इसे ध्यान में रखते हुए एक विज्ञापन एसबीआई द्वारा बनाया गया है. इस भावुक कर देने वाले विज्ञापन को लोग काफी पसंद कर रहे हैं.

इस विज्ञापन की थीम 'पापा हैं ना' रखी गई है. विज्ञापन में दिखाया गया है कि पिता कैसे अपने बच्चों की खुशी की खातिर त्याग करते हैं. वे कैसे किसी भी तरह के खतरे या मुश्किल से उन्हें बचाते हैं और उसका सामना करना उन्हें सिखाते हैं, जिससे आपको मजबूती मिलती है.

108 साल से मनाया जा रहा है फादर्स डे
दुनियाभर में फादर्स डे पिछले 108 साल से मनाया जा रहा है. फादर्स डे को अलग-अलग देशों में कई तरीकों से मनाया जाता है. आम धारणा के विपरीत, वास्तव में फादर्स डे सबसे पहले पश्चिम वर्जीनिया के फेयरमोंट में 5 जुलाई 1908 को मनाया गया था. 6 दिसंबर 1907 को मोनोंगाह, पश्चिम वर्जीनिया में एक खान दुर्घटना में मारे गए 210 पिताओं के सम्मान में इस विशेष दिवस का आयोजन श्रीमती ग्रेस गोल्डन क्लेटन ने किया था. प्रथम फादर्स डे चर्च आज भी सेन्ट्रल यूनाइटेड मेथोडिस्ट चर्च के नाम से फेयरमोंट में मौजूद है.

अमेरिका में 20वीं सदी से पहले फादर्स डे नहीं मनाया जाता था. यूरोप के कुछ देशों में इसे पहले ही 19 मार्च को मनाया जाता था. स्पेन और पुर्तगाल के लोग जब लेटिन अमेरिका के इलाकों में आए तब वहां धीरे-धीरे ये त्योहार लोकप्रिय हुआ. दुनियाभर में फादर्स डे मार्च, अप्रैल और जून महीने में अलग-अलग तारीखों पर मनाया जाता है. हालांकि, अब ज्यादातर देशों में जून के तीसरे रविवार को ही फादर्स डे मनाया जाता है. इस तारीख को अमेरिका में सबसे पहले आधिकारिक रूप से फादर्स डे घोषित किया था.