ज्योतिष डेस्क, भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए उनके भक्तों द्वारा सोमवार के दिन उपवास रखा जाता है। जो लोग अपने विवाहित जीवन में समस्याओं का सामना कर रहे हैं और जो लड़कियां भगवान शिव की तरह पति पाने की इच्छा रखती हैं, ये व्रत विशेष रूप से इन लोगों के द्वारा किया जाता है। सोमवार का उपवास वैवाहिक जीवन का आनंद लेने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। सोमवार का उपवास रखने के इच्छुक लोग इसे प्रभावी बनाने के लिए इस दिनचर्या का पालन कर सकते हैं। नारद पुराण के अनुसार, सोमवार के उपवास में व्यक्ति को सुबह स्नान करना चाहिए और शिव को जल और बेल पत्र चढ़ाकर शिव-गौरी की पूजा करनी चाहिए।

शिव पूजा के बाद, आपको सोमवार के व्रत की कहानी सुननी चाहिए। यह व्रत शाम तक चलता है। शाम के समय ही आपको भोजन करना चाहिए। सोमवार का व्रत तीन प्रकार का होता हैं, जिसमें हर सोमवार को उपवास, प्रदोष व्रत और सोलह सोमवार का व्रत शामिल हैं। इन सभी तरह के उपवास करने के लिए केवल एक ही तरह की विधि का पालन किया जाता है। इस विधि के द्वारा सोमवार का व्रत कर के आप शिव जी को खुश कर सकते है और अपनी इच्छाएं पूरी कर सकते है।