जयपुर: नीदंड गांव के करीब 2500 किसान कल से किसानों के मुद्दे को लेकर 'किसान सभा' का आयोजन करेंगे. पिछले वर्ष नीदंड गांव के किसानों ने भूमि अधिग्रहण को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था. किसानों ने इस आंदोलन को 'खेत बचाओ-किसान बचाओ’ का नाम दिया है. आंदोलन के तहत किसान अलग-अलग गांवों में जाकर किसान यात्रा का आयोजन कर किसानों के मुद्दे पर चर्चा करेंगे.

किसानों की आवाज बुलंद करने का है उद्देश्य
यात्रा के संयोजक नागेन्द्र सिंह शेखावत ने बताया कि हम किसानों की आवाज बुलंद करने के लिए जयपुर के किसानों को एकजुट करना चाहते हैं. प्रत्येक गांव में किसानों की बैठक आयोजित की जायेगी, सभी गांवों की बैठकों के बाद एक महापंचायत आयोजित की जायेगी जिसमें सरकार से किसानों के मुद्दों का समाधान निकालने की मांग की जायेगी.

किसानों के मुद्दों के लिए नहीं है उचित मंच
उन्होंने कहा कि किसानों के कई मुद्दे हैं लेकिन एक उचित मंच नहीं होने के कारण किसान अपनी मांगों को प्रभावी रूप से दबाव नहीं बना पाते हैं. किसानों के संगठित नहीं होने के कारण उनकी आवाज को अनसुना कर दिया जाता है. शेखावत ने कहा कि किसानों के मुद्दों में भूमि अधिग्रहण,कृषि उत्पाद,दूध,सब्जियों का उचित मूल्य और किसान कल्याण सहित कई मुद्दे हैं, जिनकी मांग को लेकर किसान कई बार आंदोलन कर चुके हैं.

भूमि अधिग्रहण के विरोध में पहले भी हुए हैं आंदोलन
उन्होंने बताया कि जयपुर में भूमि अधिग्रहण के विरोध में किसान पहले कई बार आंदोलन कर चुके हैं, लेकिन किसानों की एकजुटता के अभाव में मांग पर उचित कार्रवाई नहीं हो सकी. इसलिए हम सभी किसानों को एकजुट करके जयपुर किसानों का संगठन बनायेंगे.