जयपुर: आखिरकार जयपुर के एसएमएस स्टेडियम को 59 साल बाद सवाई मानसिंह मिल ही गए। जयपुर के पूर्व महाराजा सवाई मानसिंह ने 59 साल पहले स्टेडियम के लिए जमीन दी थी। इस स्टेडियम में कई अंतरराष्ट्रीय आयोजन हो चुके हैं। स्टेडियम का नाम भी उनके नाम पर ही रखा गया, लेकिन उनकी मूर्ति आज लग पाई। यह काम खेल मंत्री गजेंद्र सिंह खींवसर ने किया। मंत्री ने राजपरिवार व अपने उद्योगपति मित्रों के सहयोग से इस मूर्ति का निर्माण कराया।

सवाई मानसिंह स्टेडियम के ईस्ट गेट की तरफ यह मूर्ति लगाई गई। सवाई मानसिंह की पोलो खेलते हुए यह मूर्ति लगी है, क्योंकि उन्होंने ही भारत को पोलो विश्व कप जितवाने में अहम भूमिका निभाई थी। इस मौके पर पूर्व राजपरिवार की सदस्य व विधायक दीयाकुमारी, पद्मनाभ सिंह, देवराज सहित कई प्रमुख लोग मौजूद थे। जयपुर में सवाई मानसिंह की यह दूसरी मूर्ति है। पहली मूर्ति रामनिवास बाग में लगी थी। तब भी वसुंधरा सरकार में ही मूर्ति लगी थी और इस बार भी उनकी सरकार के दौरान ही मूर्ति लगी है। 

विधायक दीयाकुमारी ने इस मौके पर कहा कि मंत्री गजेंद्र सिंह के प्रयास से ही यह संभव हो पाया है कि आज उनके दादा की मूर्ति उनके नाम के स्टेडियम में लग सकी है।