नागौर:तेजी से बढ़ रहे ऑनलाइन गेम पबजी का खतरा अब बच्चों की मानसिकता पर दिखाई देने लगा है । पबजी गेम के बढ़ते खतरे को लेकर अब नागौर जिले के अभिभावकों ने पबजी गेम पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। नागौर जिले के अभिभावकों ने आज जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव को मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री के नाम एक ज्ञापन देकर पबजी गेम पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है।

अभिभावकों ने जिला कलक्टर को दिए गए ज्ञापन में बताया है कि पबजी गेम के खतरनाक होने की वजह से पड़ोसी राज्य गुजरात मे प्रतिबंध लगाया जा चुका है और पबजी को प्रतिबंधित किया जा चुका है। साथ ही ज्ञापन देने आए अभिभावकों की दलील है कि इस गेम को खेलने वाले बच्चों की याददाश्त खो सकती है या फिर पागलपन का शिकार भी हो सकते हैं । वर्तमान में बच्चों व युवाओं में पबजी गेम काफी लोकप्रिय हो रहा है मगर इसके दुष्परिणाम सामने आ रहे है । जिस किसी को भी गेम की लत लग जाती है वह दिन हो या रात हर समय गेम खेलने में ही व्यस्त रहता है । इस गेम को खेलने से शारीरिक व मानसिक विकास प्रभावित हो जाता है । हाल ही में इस गेम पर गुजरात सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया है और अब राजस्थान में भी इस गेम पर प्रतिबंध लगाने की मांग जोर पकड़ रही है ।

यह गेम 2017 में माइक्रोसॉफ्ट विंडोज के लिए लांच किया गया था । यह इतना लोकप्रिय हुआ कि इसको एंड्रॉयड और आर ओ एस से भी लांच करना पड़ा । ये मलेटिप्लेयर गेम है।  इसमें अन्य खिलाड़ियों को मारना पड़ता है । इसमें खेलने वाला अपनी टीम के साथ आइलैंड में उतरता है और वहा छिपे अन्य खिलाड़ियों को मारना होता है । अंत में जो जीवित बचता है वो ही विजेता होता है ।