जयपुर:राजस्थान में एक तरफ पीएचईडी कॉन्ट्रेक्टर्स का पिछले 6 महीने से करोडों का भुगतान अटका पड़ा है,. दूसरी और पीएचईडी विभाग के चीफ सीएम चौहान का कहना है कि 'मैं चीफ इंजीनियर मुझे क्या पता भुगतान का' जिसके बाद पीएचईडी कॉन्ट्रेक्टर्स में संग्राम छिड गया है. अटके भुगतान पर अब कॉन्ट्रेक्टर्स मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगे.

होली तक पेयजल योजनाएं होगी ठप
राजस्थान में हर आम आदमी के लिए बुरी खबर आ सकती है. प्रदेश में जल्द ही पेयजल योजनाएं और सप्लाई पूरी तरह से चरमरा सकती है. वजह ये है कि पीएचईडी के कॉन्ट्रेक्टर्स का पिछले 6 महीने से भुगतान नहीं हो पाया. महीनों से 1500 करोड का भुगतान अटका पड़ा है. जिसके बाद अब कॉन्ट्रेक्टर्स आंदोलन की राह पर चल पडे. चीफ इंजीनियर सीएम चौहान के बयान के बाद तो जैसे अब कॉन्ट्रेक्टर्स आग बबूला हो गए. सीएम चौहान कहते है कि हम लगातार पैमेंट करवाने का प्यास करवा रहे है,लेकिन अब उनके इन प्रयासों पर बडे सवाल उठने लगे है.

सीएम चौहान से वार्ता पूरी तरह बेनतीजा
प्रदेशभर के कॉन्ट्रेक्टर्स ने होली तक अल्टीमेटम दिया है.यदि त्यौहार तक पैमेंट नहीं हुआ तो एक बार फिर बडा आंदोलन होगा. जिसके बाद पेयजल सप्लाई पूरी तरह से चरमरा जाएगी. ठेकेदारों का कहना है हम चीफ इंजीनियर सीएम चौहान की वार्ता से पूरी तरह से असंतुष्ठ है. वे केवल मीठी गोलिया खिलाने वाला बयान दे रहे है. कोई ठोस कदम नहीं उठा रहे, इसलिए अब आंदोलन की योजना तैयार की जाएगी.

दूसरे मद में पैसा लगा दिया
1500 करोड के भुगतान में सिर्फ राजधानी जयपुर का 100 करोड का भुगतान अटका पड़ा है. वजह ये बताई जा रही है कि विभाग ने प्रोजेक्ट के मद से दूसरे मद पैसा लगा दिया. जिस कारण इतनी दिक्कते आ रही है.