नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली के अलीपुर रोड स्थित डॉ. भीमराव अंबेडकर मेमोरियल का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि 1972 में अंबेडकर मेमोरियल का विचार सामने आया था, लेकिन दूसरी सरकार ने इस प्रोजेक्ट की फाइलें दबा दीं। पहले की सरकारें काम पूरा करने की तारीख आगे बढ़ाती थीं, लेकिन हमारी सरकार काम पूरा करने के लिए तारीखें तय करती है। ऐसा ही हुआ हमने मेमोरियल की शुरुआत की और अब इसका इनॉगरेशन भी किया। इसके पहले मोदी यहां मेट्रो ट्रेन से पहुंचे। उन्होंने लोक कल्याण मार्ग मेट्रो स्टेशन से अलीपुर रोड मेट्रो स्टेशन तक का सफर तय किया।

मोदी ने कहा- "दोस्तों आजादी के बाद इतनी सरकारें आईं, इतना वक्त गुजर गया। लेकिन जो काम बहुत पहले हो जाना चाहिए था, वो आज हो रहा है। इसलिए इस जगह पर आना, इस कार्यक्रम में शामिल होना, इस जगह पर खड़े होना जहां बाबासाहेब ने आखिरी वक्त बिताया था बहुत ही गर्व की बात है।" 
- "कल बाबासाहेब की जन्म जयंती है और उसके एक दिन पूर्व इस पवित्र कार्य को पूरा करने के लिए में सामाजिक न्याय और भारत सरकार के विभागों की भूरिभूरि प्रशंसा करता हूं।"  " अब आज से ये 26 अलीपुर रोड पर बनी स्मारक दिल्ली नहीं देश के मानचित्र पर अंकित हो गई है। यहां आकर लोग बाबासाहेब के जीवन से जुड़ी बातों को और बेहतर तरीके से समझ पाएंगे। ये स्मारक एक असाधारण व्यक्ति के असाधारण कार्यों की है। ये किताब हमारे देश का वो संविधान जिसेक शिल्पकार हमारे बाबासाहेब अंबेडकर। आज की नई पीढ़ी जब इस मेमोरियल में यहां आएगी तो बाबासाहेब के कार्यों को देखकर उनको बेहतर तरीके से जान पाएगी।"

मुख्य द्वार पर 12 फीट कीअंबेडकर प्रतिमा

- मुख्य द्वार से अंदर जाते ही बाईं तरफ बोधि वृक्ष के नीचे कुछ सोचते हुए अंबेडकर, सामने उनकी 12 फीट की प्रतिमा, बाईं तरफ पहली दीवार पर उनका अंग्रेजी उद्धरण- ‘हम आदि से अंत तक भारतीय हैं’, अन्य दीवारों पर अलग-अलग संविधान सभा की पूरी बैठक, पंडित नेहरू की पहली कैबिनेट, ड्राफ्टिंग कमेटी और संविधान के मसौदे पर दस्तखत दिखेंगे।

टिकट की दरें तय नहीं, 90 मिनट रह सकेंगे

- इस म्यूजियम में एंट्री के लिए टिकट भी रखा जाएगा जिसकी दरें अभी तय नहीं हुई हैं। करीब 90 मिनट बाद बाहर निकलने की अनुमति मिलने वाले इस म्यूजियम में जगह-जगह टीवी स्क्रीन के रूप में अंबेडकर से जुड़ी चीजों को दिखाया गया है। म्यूजियम में मोबाइल शेप में एक इंफॉर्मेशन प्वाइंट भी बनाया गया है।