भरतपुर, राजस्थान गोसेवा समिति के आह्वान पर मंगलवार को गौशाला संचालकों, गौभक्तों तथा समाजसेवियों के द्वारा रैली निकाल कर जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंप गोवंश संवर्धन एवं संरक्षण संबंधित सरकारी घोषणाओं के क्रियान्वयन की मांग की गई। इस मौके पर गोसेवा समिति के जिलाध्यक्ष ब्रह्मदेव शास्त्री ने कहा कि राजस्थान राज्य के गांवों, कस्बो तथा शहरों में निराश्रित गोवंश भूख से व्याकुल भटकने को मजबूर है। निराश्रित गौवंश सडको पर दुर्घटना का शिकार हो रहा है। इस गोवंश को आश्रय तथा आहार की की भारी आवश्यकता है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में गोसेवा प्रेमियों द्वारा निराश्रित गोवंश के लिए स्थापित गौशालाओं में भी पौष्टिक आहार तथा चारे का संकट बना रहता है। उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद भाजपा के द्वारा गोवंश संवर्धन एवं संरक्षण के लिए विजन दस्तावेज बनाया था। इस दस्तावेज में गोवंश संवर्धन एवं संरक्षण संबंधित 15 विषयों का विवरण है। अब तक इसमें से कुछ परकार्य हुआ है परन्तु वह भी आधा अधूरा ही हुआ है जबकि सरकार के चार वर्ष पूरे हो चुके है। जिसके चलते आज रैली निकाल जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौप गोवंश संवर्धन एवं संरक्षण संबंधित सरकारी घोषणाओं के क्रियान्वयन की मांग की गई।

उन्होंने कहा कि सरकार अगर इस संबंध में कार्य नहीं करती है तो उन्है आन्दोलन के लिए मजबूर होना पडेगा। इस मौके पर समाजसेवी गिरधारी तिवारी, महन्त शिशुपाल, महन्त तारा, देवेन्द्र पाण्डेय, अशोक शर्मा, इन्दर सिंह, रामगोपाल, विनोद मानवी, अनिल सैनी, राजकुमार, नेमचन्द खण्डेलवाल, गौरी शंकर सहित भारी संख्या में गौभक्त तथा समाजसेवी मौजूद रहे।