नई दिल्ली। रक्षा खरीद परिषद ने आज तीन हजार करोड़ रूपये मूल्‍य के रक्षा उपकरण खरीदने की मंजूरी दे दी है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्‍यक्षता में हुई परिषद की बैठक में रूस में बनने वाली भारतीय नौसेना की जहाजों के लिए स्‍वदेश में निर्मित ब्रम्‍होस मिसाइल की स्‍वीकृति दी गई। 

गौरतलब है कि ब्रम्‍होस मिसाइल एक जांची परखीसुपर सोनिक क्रूज मिसाइल है और इन जहाजों के लिए यह सबसे महत्‍वपूर्ण हथियार होगी। रक्षा विभाग के जानकार सूत्रों के अनुसार इसमें डीआरडीओ से डिजाइन और विकसित किए गए बख्तरबंद रिकवरी वाहन और  एमबीटी अर्जुन को भी खरीदा जाएगा। ये फैसला ऐसे वक्त में आया है जब भारतीय सेना को हथियारों की सख्त जरूरत है।

बता दें कि रक्षा मामलों के जानकारों के अनुसार अब भारत को ढाई मोर्चे यानि पाकिस्तान-चीन और देश के भीतर माओवादियों और अन्य विघटनकारी तत्वों से लड़ना पड़ेगा। ऐसे में सेना को हथियारों के साथ -साथ दूसरे साजोसामानों की भी जरूरत पड़ेगी। ऐसे में हथियारों के सौदों को मंजूरी देनी पड़ेगी।