गोल्ड कोस्ट: ऑस्ट्रेलिया में चल रहे 21वें कॉमनवेल्थ खेलों का छठा दिन भारत के लिए मिला-जुला रहा. निराशाजनक सुबह के बाद भारतीय शूटर हीना सिद्धू ने करोड़ों भारतीय खेलप्रेमियों के चेहरे पर स्वर्ण जीतकर जल्मुद ही मुस्कान ला दी. उन्होंने 25 मी. पिस्टल वर्ग में स्वर्ण जीता, जो छठे दिन भारत को मिलने वाला इकलौता स्वर्ण पदक रहा. वहीं मुक्केबाज नमन तंवर, अमित पंघाल, मौहम्मद हुसामुद्दीन, मनोज कुमार और सतीश कुमार ने अपने-अपने वर्ग में सेमीफाइनल में पहुंचकर भारत के लिए पांच कांस्य पदक सुनिश्चित कर दिए हैं.भारतीय महिला हॉकी टीम ने भी मंगलवार को दक्षिण अफ्रीका को मात 1-0 से हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है. पुरुष टीम पहले ही अंतिम चार में जगह बना चुकी है.इनके अलावा पैरा पावरलिफ्टिंग में सचिन चौधरी ने भी अपनी कैटेगिरी में भारत के लिए कांस्य पदक झटकने में कामयाब रहे.

भारत के मोहम्मद अनस राष्ट्रमंडल खेलों की पुरुषों की 400 मीटर दौड़ में आज यहां राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाने के बावजूद मामूली अंतर से कांस्य पदक से चूककर चौथे स्थान पर रहे. अनस ने 45.31 सेकेंड के समय के साथ 45.32 सेकेंड के अपने ही पिछले रिकॉर्ड में मामूली सुधार किया, जो उन्होंने पिछले साल दिल्ली में इंडियन ग्रां प्री के दौरान बनाया था.

1958 में दिग्गज धावक मिल्खा सिंह के बाद पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों की 400 मीटर दौड़ के फाइनल में कोई भारतीय धावक हिस्सा ले रहा था. अनस का प्रयास हलांकि पदक के लिए पर्याप्त नहीं था और वह कांस्य पदक जीतने वाले जमैका के जेवन फ्रांसिस (45 .11 सेकेंड ) से 0.2 सेकेंड पीछे रहे. बोत्सवाना के इसाक मकवाला (44 .35 सेकेंड ) और बाबोलोकी थेबे (45 .09 सेकेंड ) ने क्रमश : स्वर्ण और रजत पदक जीता.

हिमा दास महिला 400 मीटर में 51.53 सेकेंड का अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए फाइनल में जगह बनाने में सफल रहीं. वह सेमीफाइनल में तीसरे स्थान पर रहीं, जबकि फाइनल में जगह बनाने वाली आठ धावकों में उन्होंने सातवां सबसे तेज समय निकाला. उन्होंने अपने निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में 0. 44 सेकेंड का सुधार किया. हिमा ने राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वालिफाई कर सभी को हैरान किया था.