नवी मुंबई:टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के रनों पर इस कदर ब्रेक लग गया है कि वो पिछली 22 पारियों से शतक नहीं लगा पाए हैं. न्यूजीलैंड दौरे पर विराट कोहली टी20, वनडे और टेस्ट सीरीज में फ्लॉप रहे. अपनी इस खराब फॉर्म ने शायद विराट कोहली को भी काफी परेशान कर दिया और इसीलिए उन्होंने अपने बचपन के कोच राजकुमार शर्मा को फोन घुमा दिया. खुद राजकुमार शर्मा ने इस बात का खुलासा किया है. राजकुमार शर्मा (Rajkumar Sharma) ने कहा, 'हर खिलाड़ी बुरे दौर से गुजरता है. चिंता की कोई बात नहीं है. वह बहुत अच्छा खिलाड़ी है और जानता है कि क्या गलत हो रहा है. हम इस पर बात कर चुके हैं. वह जल्द वापसी करेगा.'

विराट ने नहीं लांघी सीमाएं
विराट कोहली (Virat Kohli) के आक्रामक रवैये का उनके कोच राजकुमार शर्मा ने बचाव किया. राजकुमार शर्मा ने सोमवार को अपने शिष्य के मैदान पर व्यवहार का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने कभी आक्रामकता और दुर्व्यवहार के बीच की रेखा को नहीं लांघा. शर्मा ने पत्रकारों से कहा, ‘‘जब वह (कोहली) अच्छा प्रदर्शन करता है तो देश के लिये उनकी इसी आक्रामकता की सभी सराहना करते हैं. मेरा मानना है कि आक्रामकता उनका मजबूत पक्ष है लेकिन आक्रामकता और बदतमीजी के बीच एक रेखा है. उन्होंने कभी उस रेखा को पार नहीं किया. आक्रामकता उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने के लिये प्रेरित करती है.'

बता दें न्यूजीलैंड के खिलाफ क्राइस्टचर्च में दूसरे टेस्ट मैच के दौरान विरोधी टीम के कप्तान केन विलियमसन के आउट होने पर कोहली (Virat Kohli) ने जमकर जश्न मनाया और दर्शकों की तरफ इशारा करके चुप रहने के लिये कहा. जिसके बाद सोशल मीडिया पर विराट की आलोचना की गई थी. क्राइस्टचर्च में हार के बाद विराट कोहली से इस तरह के व्यवहार पर सवाल भी पूछा गया था जिसके बाद वो पत्रकार पर बिफर गए थे. विराट ने पत्रकार को डांटते हुए कहा था, 'आपको यह पता लगाने की जरूरत है कि हकीकत में क्या हुआ था और फिर आप एक अच्छे सवाल के साथ यहां पर आएं. आप आधे अधूरे सवाल और जानकारी के साथ यहां पर नहीं आ सकते और यदि आप विवाद बनाना चाहते हैं तो यह सही जगह नहीं है. मैंने मैच रैफरी से बात की थी और जो कुछ हुआ, उसके साथ उन्हें कोई परेशानी नहीं थी.'

न्यूजीलैंड दौरे पर विराट का प्रदर्शन
कोहली (Virat Kohli) टेस्ट सीरीज के दो मैचों की चार पारियों में केवल 38 रन ही बना पाये. विराट कोहली टेस्ट सीरीज में 100 गेंद भी नहीं खेल सके. विराट कोहली 2 टेस्ट में महज 95 गेंद ही खेल सके. ऐसा विराट के करियर में पहली बार हुआ है कि वो दो टेस्ट की चार पारियों में कुल 100 गेंद भी नहीं खेल पाए. इससे पहले 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज की 5 पारियों में विराट कोहली 104 गेंद ही खेल पाए थे. वनडे सीरीज की बात करें तो विराट ने 3 मैचों में सिर्फ 75 रन बनाए. टी20 सीरीज में कोहली ने 4 मैचों में 26.25 की औसत से 105 रन ही बनाए. विराट कोहली पिछली 6 पारियों से अर्धशतक नहीं लगा सके हैं, साफ है कि भारत के कप्तान का ये मुश्किल दौर चल रहा है और उन्हें जल्द से जल्द इससे उबरना होगा.