पश्चिम बंगाल के 20 जिलों में हुए पंचायत चुनावों के लिए गुरुवार को हो रही मतगणना के रुझानों में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को भारी बढ़त मिलती दिख रही है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, 107 पंचायत समिति सीटों और 204 जिला परिषद सीटों पर तृणमूल कांग्रेस बढ़त में है। इनमें से कई सीटों पर तृणमूल की जीत लगभग तय है। वहीं भारतीय जनता पार्टी 4 सीटों पर जीत दर्ज की है और 81 सीटों पर आगे चल रही है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) 3 सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि 50 जगह उसके प्रत्याशी आगे चल रहे हैं।

वहीं मतगणना शुरू होने के साथ ही गड़बड़ियों का खुलासा होने लगा है। जलपाईगुड़ी में पॉलिटेक्निक संस्थान स्थित काउंटिंग सेंटर से पुलिस ने 40 मोबाइल फोन जब्त किए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार टीएमसी 6852, भाजपा 393 बीजेपी औऱ लेफ्ट 169 सीटों पर आगे चल रही है।

चुनाव के दौरान कई जगहों पर हिंसा की घटनाएं हुई थीं। इसी वजह से ऐतिहातन चुनाव आयोग ने मतगणना स्थलों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर रखे हैं। आयोग को जिन स्थलों पर हिंसा की सूचनाएं मिली थीं वहां पर बुधवार को छिटपुट हिंसा के बाद दोबारा मतदान करवाए गए। आयोग के अनुसार 70 फीसदी मतदान हुए। 

हुगली में 10, पश्चिम मिदनापुर में 28, कूचबिहार में 52, मुर्शिदाबाद में 63, नदिया में 60, उत्तरी 24 परगना में 59, मालदा में 55, उत्तर दिनाजपुर में 73 और दक्षिण 24 परगना में 26 मतदान केंद्रों पर पुनर्मतदान कराए गए थे। मतगणना के बीच पुलिस ने जलपाईगुड़ी जिले के पॉलीटैक्निक इंस्टीट्यूट से 40 मोबाइल फोन बरामद किए हैं। मतगणना केंद्रो के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद है। 

बता दें कि पश्चिम बंगाल में 14 मई को हुए पंचायत चुनावों में काफी बड़े पैमाने पर हिंसा की घटनाएं हुई थीं। जिसमें 12 लोगों की जान चली गई थी और 43 अन्य घायल हो गये थे। हिंसा के दौरान मुख्य मतदान केंद्रों को निशाना बनाया गया था। कई जगहों पर भाजपा-टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई। तो कहीं-कहीं पर भाजपा और कांग्रेस समर्थक आपस में भिड़ गए।

बुधवार को केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में हिंसा के ब्यौरे को अधूरा बताते हुए ममता सरकार से दूसरी रिपोर्ट भेजने के लिए कहा। एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में सोमवार को हुए चुनाव में भारी हिंसा के बाद रिपोर्ट भेजने के लिए कहा गया था। इसके दो दिन बाद ही यह संदेश भेजा गया था।