जयपुर:राजधानी जयपुर में गुरुवार को एक नए कोरोना पॉजिटिव केस ने पूरे रामगंज इलाके में खौफ फैला दिया. कोरोना पॉजिटिव रामगंज निवासी मरीज ओमान से दिल्ली और दिल्ली से जयपुर बस से पहुंचा. घर आने के बाद उसने विदेश से आने की सूचना चिकित्सा विभाग को नहीं दी. 12 दिन बाद जब तबीयत खराब हुई, तब मरीज अस्पताल में भर्ती हुआ. गुरुवार को उसकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई. चिकित्सा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार मरीज 11 मार्च को ओमान से निकला. 12 मार्च को दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचा, वहां पर मरीज की स्क्रीनिंग हुई और वह राजस्थान परिवहन की बस से जयपुर पहुंचा. कुछ दिन बाद जब मरीज मोती कटला स्थित सीएचसी डिस्पेंसरी में डॉक्टर रऊफ को रूटीन चैकअप करवाने पहुंचा, तब उसने ओमान से आने की सूचना दी. इसके बाद डॉक्टर ने चिकित्सा विभाग को इस बारे में बताया. डॉ. रऊफ ने इसके बाद दो बार उसकी जांच की. उस समय मरीज स्वस्थ था. मरीज को कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे थे. 

दो बार निवेदन पर भर्ती हुआ मरीज:
24 मार्च को मरीज के कोरोना के लक्षण मिले, तब डॉ. रऊफ और स्थानीय विधायक अमीन कागजी ने मरीज से अस्पताल में भर्ती होने के लिए दो बार फोन पर निवेदन किया. इसके बाद वह एसएमएस अस्पताल पहुंचा. अस्पताल में मरीज का सैम्पल जांच के लिए लैब में भिजवाया. 26 मार्च को मरीज की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई. 

17 लोग मरीज के क्लोज सम्पर्क में आए:
मरीज के कोरोना पॉजिटिव मिलने की सूचना के बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जयपुर प्रथम डॉ. नरोत्तम शर्मा के साथ रेपिड रेस्पॉंन्स टीम मरीज के घर पहुंची. सीएमएचओ ऑफिस में कार्यरत डॉ. जयदीप सिंह राजावत भी मौके पर पहुंचे. इसके बाद सर्वे का काम किया. मरीज की पत्नी, दो बच्चे और तीन भतीजों की स्क्रीनिंग कर एसएमएस अस्पताल भिजवाया गया. सीएमएचओ डॉ. नरोत्तम शर्मा ने बताया कि 17 लोग मरीज के क्लोज सम्पर्क में आए हैं. उन्हें 14 दिन के लिए होम क्वारेंटाइन में आरयूएचएस भेजा गया. 102 घरों का सर्वे किया गया. शुक्रवार को मरीज के घर से तीन किलोमीटर के दायरे में आने वाले घरों का सर्वे किया जाएगा.