जयपुर:आखिर लंबी जद्दोजहद के बाद कांग्रेस की चुनाव संचालन कमेटियों का गठन हो गया है। कमेटियों के जरिए कांग्रेस ने पूरी तरह से जातिगत और सियासी समीकरण साधने की कोशिशें की है। यह वजह है कि हर क्षेत्र, वर्ग, यूथ, महिला, कार्यकर्ता औऱ जाति को प्रतिनिधित्व कमेटियों के जरिए दिया गया है। कमेटियों में सबसे चौंकाने वाला फैसला रघु शर्मा को इलेक्शन कैंपेन कमेटी चेयरमैन बनाने का है। गहलोत को कॉर्डिनेशन, पाय़लट को पीईसी औऱ सीपी को प्रचार प्रसार कमेटी का मुखिया बनाया गया है।

करीब ढाई महीने के इंतजार औऱ कसरत के बाद आखिरकार कल देर रात चुनावों के लिए कांग्रेस की कमेटियों का ऐलान हो गया है। कमेटियों के जरिए कांग्रेस ने हर समीकरणों की साधने का प्रयास किया है। यही वजह है कि जंबो कमेटियों का गठन किया गया है। पूरी तरह से जातिय और क्षेत्रिय समीकरणों का भी ख्याल रखा गया है। चुनावी कमेटियों में जातिगत समीकरणों के तहत दो ब्राह्मण, दो जाट, एससी, एसटीस, मुस्लिम, गुर्जर और सैनी समाज के नेता को एक एक हैड बनाया गया है। चुनावी कमेटियों की घोषणा के साथ ही कांग्रेस पूरी तरह से चुनावी एक्शन में आ गई है।

ये हैं कांग्रेस की चुनावी कमेटियां :

कॉर्डिनेशन कमेटी : अशोक गहलोत, अध्यक्ष
प्रदेश चुनाव समिति : पीसीसी चीफ सचिन पायलट अध्यक्ष, रामेश्वर डूडी सह अध्यक्ष और रमेश मीणा संयोजकए कमेटी में 44 सदस्य रखे गए हैं।

कैंपेन कमेटी : रघु शर्मा अध्यक्ष, महेंद्रजीत मालवीय सह अध्यक्ष व सालेह मोहम्मद व ममता भूपेश संयोजक, कमेटी में 60 सदस्य बनाए गए हैं।
मीडिया व कॉर्डिनेशन कमेटी : गोविंद सिंह डोटासरा अध्यक्ष, अर्चना शर्मा सह अध्यक्ष, सत्येंद्र सिंह राघव, सउद सईदी और प्रशांत बैरवा संयोजक, विषयवार 15 विशेषज्ञ सदस्य, सात

मीडिया कॉर्डिनटर, 18 प्रवक्ता और 40 पैनलिस्ट रखे गए हैं।
घोषणा पत्र समिति : हरीश चौधरी अध्यक्ष, रघुवीर मीणा सह अध्यक्ष, मंजू मेघवाल और शकुंतला रावत संयोजक, कमेटी में 53 सदस्यों को जगह दी गई है।
 

प्रचार प्रसार कमेटी : सीपी जोशी अध्यक्ष और भंवर जितेंद्र सिंह सह अध्यक्ष, अशोक चांदना संयोजक और बालेंदु शेखावत व अमीन कागजी सह संयोजक, इस कमेटी में 33 सदस्य रखे गए हैं।
ट्रासंपोर्ट व अकोमोडेशन समिति : परसादीलाल मीणा अध्यक्ष और रतन देवासी सह अध्यक्ष, राकेश मोरदिया व अरुण कुमावत संयोजक, इसमें 25 सदस्य बनाए गए हैं।
प्रोटोकॉल कमेटी : रेहाना रियाज अध्यक्ष व धीरज गुर्जर सह अध्यक्ष, धर्मेंद्र सिंह राठौड़ व नीरज डांगी संयोजक, कमेटी में 21 सदस्य बनाए गए हैं।
अनुशासन समिति : मास्टर भंवरलाल मेघवाल अध्यक्ष और एए खान उर्फ दुर्रु मियां सह अध्यक्ष, सुशील शर्मा और वंदना माथुर संयोजक, हेमाराम चौधरी और गोपाल सिंह ईड़वा को सदस्य बनाया गया है।

कमेटियों के गठन के बाद पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने फर्स्ट इंडिया से खास बातचीत करते हुए कहा कि हमने हर फैक्टर को ध्यान रखते हुए कमेटियों का गठन किया है। पायलट ने संतुलित कमेटियों के गठन का श्रेय़ राहुल गांधी को दिया है। टिकटों के चयन के लिए गठित प्रदेश चुनाव समिति की बैठक के बार में पायलट ने कहा कि जल्द ही इसकी बैठक होगी औऱ प्रत्याशी चयन प्रक्रिया की कवायद शुरु करेंगे।

वहीं प्रभारी अविनाश पांडेय ने कहा कि चुनाव संचालन कमेटियों के गठन के बाद पार्टी अब जिताऊ प्रत्याशियों के चयन के काम पर ध्यान देगी। टिकटों के चयन के क्या मापदंड होंगे और कब तक पहली लिस्ट आ जाएगी, इस बारे में पांडेय ने कहा कि जल्द ही, इंतजार कीजिए सब खुलासा कर देंगे।

गौरतलब है कि पूर्व में कमेटियों के गठन नहीं होने से चुनाव संबंधी कईं अहम रणनीतियों औऱ प्रत्याशी चयन जैसे काम ठंडे पड़े थे। बहरहाल, अब कमेटियों का गठन नहीं होने के बाद कांग्रेस यकीनन पूरी तरह से चुनावी मोड़ में आ गई है। राहुल गांधी के दौरे के बाद इन कमेटियों की पहली बैठक होगी, जिसमें तमाम रणनीतियों का खाका तैयार किया जाएगा।