नई दिल्ली/लखनऊ: कर्नाटक चुनाव के बाद अब बीजेपी की निगाहें कैराना के लोकसभा उपचुनाव पर हैं, बीजेपी इस सीट पर कोई कोताही बरतना नहीं चाहता है, इसीलिए पार्टी ने अपने स्टार प्रचारक को मैदान में उतारने का मन बनाया है,प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ मंगलवार (22 मई) मैराथन रैलियां करने वाले हैं, बुधवार को कैराना लोकसभा सीट के लिए सीएम योगी गंगोह  विधानसभा में चुनावी रैली को संबोधित करेंगे, इसके इस मौके पर सीएम योगी के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या समेत कई विधायक और बीजेपी नेता भी मौजूद रहेंगे, इसके अलावा योगी महाराष्ट्र की पालघर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए भी रैली करेंगे, 

क्या है कार्यक्रम 
सीएम योगी बुधवार (22 मई) गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस से अंबेहटा पीर के लिए रवाना होंगे और गंगोह विधानसभा में बीजेपी प्रत्याशी मृगांका सिंह के समर्थन में जनसभा करेंगे और दोपहर करीब ढाई बजे गाजियाबाद के लिए रवाना हो जाएंगे, इसके बाद वो महाराष्ट्र के पालघर में होने वाली चुनावी रैली के लिए रवाना होंगे,

बीजेपी की पकड़ को मजबूत करने के लिए उतरेंगे योगी
कैराना उपचुनाव के लिए बीजेपी की तरफ से मृगांका चुनावी ताल ठोक रही हैं, ऐसा माना जा रहा है कि बीजेपी प्रत्याशी मृगांका के समर्थन में मंगलवार को होने वाली मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रैली बीजेपी की पकड़ को साबित करेगी, विपक्ष को एकजुट करने के बाद बीजेपी की ये पहली रैली है, इसलिए इसे कई राजनैतिक नजरिए से देखा जा रहा है,

बीजेपी के लिए प्रतिष्ठा का सवाल
गोरखपुर और फूलपुर में हार के बाद कैराना उपचुनाव योगी सरकार के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है, सीएम योगी इस बात को जानते हैं कि विपक्ष को साधने के लिए अब कैराना लोकसभी सीट जीतने के लिए एड़ी-चोटी का जोड़ लगाना है, इस लिए सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या समेत कई बीजेपी नेता, विधायक मौजूद रहेंगे,

बीजेपी के खिलाफ एकजुट है विपक्ष
कैराना उपचुनाव में इस बार समीकरण पूरी तरह बदले हुए है, सीएम योगी आदित्यनाथ की ये रैली इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि पहली बार पूरा विपक्ष यानि सपा, बसपा, कांग्रेस और रालोद एक साथ है, जो बीजेपी को सीधी टक्कर दे रहे हैं, ऐसे में सीएम की रैलियों को किसी चुनौती से कम नहीं माना जा रहा है, आपको बता दें कि कैराना लोकसभा क्षेत्र की इस सीट से 2014 में हुकुम सिंह जीतकर संसद पहुंचे थे, मगर उनके निधन के कारण ये सीट खाली हो गई थी,